विजेट आपके ब्लॉग पर

Friday, September 23, 2016

रूसी उपन्यास "आझकल के हीरो" ; भाग-2 ; 2. राजकुमारी मेरी - अध्याय-4



रूसी उपन्यास – “आझकल के हीरो”
भाग-2
2. राजकुमारी मेरी - अध्याय-4

21 मई

लगभग एक सप्ताह गुजर चुकले ह, लेकिन लिगोव्स्काया से हमर परिचय नयँ हो पइले ह । उचित अवसर के प्रतीक्षा कर रहलिए ह । ग्रुशनित्सकी, छाया नियन, सगरो छोटकी राजकुमारी के पीछा करऽ हइ । उनकन्हीं के बातचीत अंतहीन हइ - कब ऊ उनका बोर करतइ ? ... माय एकरा पर ध्यान नयँ दे हथिन, काहेकि ऊ (अर्थात् ग्रुशनित्स्की) मंगेतर नयँ हइ । त ई हइ माय लोग के तर्क ! हम दु-तीन कोमल दृष्टि (tender glances) के नोटिस कइलिअइ - एकरा समाप्त करहीं के चाही ।

कल्हे कुआँ बिजुन पहिले तुरी वेरा अइलइ ... गुफा में भेंट होला के समय से ऊ घर से बाहर नयँ होवऽ हलइ । हमन्हीं दुन्नु एक्के समय गिलास निच्चे कइलिअइ, आउ ऊ झुकके हमरा फुसफुसइलइ -
"तूँ लिगोव्स्काया से परिचित होवे लगी नयँ चाहऽ हो ? ... हमन्हीं खाली हुएँ एक दोसरा के देख सकते जा हिअइ..."

ताना ! बोरिंग ! लेकिन एकरे लायक हलिअइ ...
संयोगवश, बिहान रेस्तोराँ के हॉल में सशुल्क बॉल नृत्य हइ, आउ हम छोटकी राजकुमारी के साथ माज़ुर्का नृत्य करबइ ।


अनूदित साहित्य             सूची            पिछला                     अगला