विजेट आपके ब्लॉग पर

Sunday, September 19, 2021

रूसी उपन्यास "अपमानित आउ तिरस्कृत": भाग 3; अध्याय 4

                                  अपमानित आउ तिरस्कृत

भाग 3

अध्याय 4

कुछ मिनट तक तो हम सब एक्को शब्द नञ् बोललिअइ। नताशा विचारमग्न बैठल हलइ, उदास आउ हताश। ओकर सब स्फूर्ति ओकरा अचानक छोड़ देलकइ। ऊ सीधे खुद के सामने देख रहले हल, बिन कुछ देखते, मानु विस्मृति में आउ अल्योशा के हाथ अपन हाथ में धइले। अल्योशा शांतिपूर्वक अपन दुखड़ा रो रहले हल, कभी-कभी ओकरा तरफ भीरु उत्सुकता से नजर डाल ले हलइ।

आखिरकार, ऊ डरते-डरते ओकरा सांत्वना देवे लगलइ, गोस्सा नञ् करे खातिर निवेदन करे लगलइ, खुद के दोष दे हलइ; साफ हलइ, कि ओकरा अपन बाप के सफाई देवे के बहुत इच्छा हलइ आउ कि ई खास करके ओकर दिल में हलइ; ऊ कइएक तुरी एकरा बारे बोलले हल, लेकिन स्पष्ट रूप से कह डाले के ओकरा हिम्मत नञ् पड़लइ, नताशा के फेर से क्रोध के जागृत करे के भय से। ऊ ओकरा शाश्वत, अपरिवर्तनीय प्रेम के कसम खा रहले हल आउ जोश के साथ कात्या के प्रति अपन प्रेम के स्पष्टीकरण दे रहले हल; लगातार दोहरइते, कि ऊ कात्या के खाली बहिन के रूप में प्रेम करऽ हइ, प्यारी, दयालु बहिन के, जेकरा ऊ बिलकुल नञ् छोड़ सकऽ हलइ, कि ई ओकर (अल्योशा के) तरफ से रूक्षता आउ निर्दयता भी होते हल, आउ विश्वास देलइते रहलइ, कि अगर नताशा कात्या के जानतइ, त ओकन्हीं दुन्नु में तुरते दोस्ती हो जइतइ, अइसन कि कभियो अलगे नञ् होते जइतइ, आउ तब कभी कइसनो गलतफहमी नञ् होतइ। ई विचार ओरा विशेष रूप से पसीन पड़लइ। बेचारा (अल्योशा) कुच्छो नञ् झूठ बोलऽ हलइ। ऊ नताशा के आशंका (apprehensions) के नञ् समझऽ हलइ, आउ सामान्यतः निम्मन से नञ् समझलकइ, कि ऊ अभी ओकर बाप के की कहलकइ। ऊ खाली समझलकइ, कि ओकन्हीं झगड़ रहले हल, आउ एहे तो ओकर दिल में खास करके पत्थल के रूप में पड़ल हलइ।

"तूँ हमरा अपन पिता के तरफ से दोषी समझऽ हकहो?" नताशा पुछलकइ।

"की हम दोषी ठहरा सकऽ हियो?" ऊ कटु भावना के साथ उत्तर देलकइ, "जबकि हम खुद सब कुछ लगी कारण हिअइ आउ सब मामले में दोषी हिअइ? ई हम हकियो कि तोहरा हम [*320] एतना गोस्सा देलवलियो, लेकिन तूँ गोस्सा में उनका दोषी ठहरइलहो, काहेकि तूँ हमरा सही ठहरावे लगी चाहऽ हलहो; तूँ हमेशे हमर समर्थन करऽ ह, लेकिन हम ओकर काबिल नञ् हियो। तोरा जरूरत हलो केकरो दोषी खोजे के, आउ अइकी तूँ सोचलहो, कि ई ऊ हथिन। लेकिन ऊ, सचमुच, सचमुच, दोषी नञ्!" अल्योशा चिल्लइलइ, उत्तेजित होते।

"आउ एहे विचार से ऊ हियाँ अइलथुन हल! की एहे उनकर आशा हलइ!"

लेकिन, ई देखके, कि नताशा ओकरा दने उदासी आउ तिरस्कार से देखब करऽ हइ, त ऊ तुरते सहम गेलइ।

"अच्छऽ, अइसन नञ् बोलबो, नञ् बोलबो, हमरा माफ कर द", ऊ कहलकइ। "हम सब कुछ के कारण हियो!"

"हाँ, अल्योशा", ऊ बात जारी रखलकइ कटु भावना के साथ। "अभी ऊ हमन्हीं के बीच से गुजरलथुन आउ हमन्हीं के पूरा संसार उजाड़ देलथुन, जिनगी भर लगी। तूँ हमेशे हमरा पर सबसे जादे विश्वास करऽ हलऽ, बनिस्पत सब लोग के; अब तो ऊ तोहर दिल में हमर विरुद्ध शंका उँड़ेल देलथुन हँ, अविश्वास, तूँ हमरा दोष दे हो, ऊ तो हमरा से तोहर आधा दिल ले लेलथुन। हमन्हीं बीच से होके एगो कार बिलाय दौड़के गेलो।"

"अइसन मत बोलऽ, नताशा। तूँ काहे बोलऽ हो - «कार बिलाय»? ऊ अइसन अभिव्यक्ति से दुखी हो गेलथिन।"

"ऊ झूठ दयालुता, झूठ उदारता से तोहरा अपना तरफ आकर्षित कर लेलथुन", नताशा बात जारी रखलकइ, "आउ अब जादे से जादे तोहरा हमरा विरुद्ध पुनःस्थापित करथुन (उसकइथुन)।"

"हम कसम खाके कहऽ हियो, कि अइसन बात नञ् हइ!" अल्योशा आउ अधिक गरमी के साथ चिल्लइलइ। "ऊ चिढ़ल हलथिन, जब ऊ कहलथिन हल, कि «हम सब जल्दीबाजी में हलिअइ», तूँ खुद देखभो, कि बिहाने, कुछ दिन में, उनका आद आ जइतइ, आउ अगर ऊ एतना गोसाल हथिन, कि ऊ वास्तव में हमन्हीं के विवाह नञ् चाहथिन, त हम, तोहरा कसम से कहऽ हियो, कि हम उनकर बात नञ् मानबइ। हमरा, शायद, एतना साहस हो जइतइ ... आउ जानऽ हो, केऽ हमन्हीं के मदत करतइ", ऊ अपन विचार पर अचानक हर्षोन्माद से चिल्लइलइ, "कात्या हमन्हीं के मदत करतइ! आउ तूँ देखभो, तूँ देखभो, कि ई कइसन अतिसुंदर जीव हइ! तूँ देखभो, कि ऊ तोर प्रतिद्वन्द्वी होवे आउ हमन्हीं के अलगे करे लगी चाहऽ हको कि नञ्! आउ तूँ केतना अन्याय कइलहो अभी, जब बोललहो, कि हम ओइसन लोग में हिअइ, जे विवाह के दोसरे दिन प्यार करना बंद कर दे सकऽ हइ! हमरा ई सुन्ने में केतना कटु हलइ! नञ्, हम ओइसन नञ्, आउ अगर हम अकसर कात्या के हियाँ भेंट दे हलिअइ ..."

"बस, अल्योशा, ओकरा साथ रहो, जब तोर मन करो। हम ऊ बात के बारे अभी नञ् बोल रहलिए हल। तोरा सब कुछ समझ में नञ् अइलो। तूँ जेकरा साथ चाहऽ, खुश रहऽ। हम तोर दिल से जादे के माँग नञ् कर सकऽ ही, बनिस्पत कि ई जेतना दे सकऽ हइ ..."

मावरा अन्दर अइलइ।

"की, चाय लावल जाय? की मजाक हइ, दू घंटा से समावार उबल रहले ह; एगारह बज चुकले ह।"

ऊ रुखाई से आउ गोस्सा में पुछलकइ; साफ हलइ, कि ऊ बहुत खराब मूड (मनोदशा) में हलइ आउ नताशा पर गोसाल हलइ। बात ई हलइ, कि ऊ ई सब दिन, मंगलवार से, अइसन हर्षोन्माद में हलइ, कि ओकर रईसजादी (जेकरा ऊ बहुत प्यार करऽ हलइ) विवाह करतइ, कि ऊ पूरे घर में घोषित कर चुकले हल, अड़ोस-पड़ोस में, दोकान में, दरबान के। ऊ शेखी बघारऽ हलइ आउ हर्षोल्लास के साथ बतावऽ हलइ, कि प्रिंस, एगो महत्त्पूर्ण व्यक्ति, जेनरल आउ बड़गो धनी, खुद्दे अइलथिन हल ओकर रईसजादी के सहमति खातिर निवेदन करे लगी, आउ ऊ, मावरा, अपन खुद के कान से सुनलके हल, आउ अचानक, अब, [*321] सब कुछ धूलि में मिल गेलइ। प्रिंस क्रोधित होके चल गेलथिन, आउ उनका कोय चाय नञ् देल गेलइ आउ, जाहिर हइ, ई सब के दोषी रईसजादी हइ। मावरा सुनलकइ, कि ऊ कइसे उनका साथ अनादरपूर्वक बोल रहले हल।

"एकरा में की हइ ... लाव", नताशा उत्तर देलकइ।

"अच्छऽ, आउ नाश्ता लावल जाय कि नञ्?"

"अच्छऽ, नाश्ता भी", नताशा संकोच में पड़ गेलइ।

"तैयार हइ, तैयार हइ!" मावरा बात जारी रखलकइ, "कल्हे से बिन गोड़ के हो गेलूँ हँ। शराब खातिर नेव्स्की प्रोस्पेक्त दौड़के गेलूँ हल, आउ हियाँ ..." आउ ऊ बाहर चल गेलइ, गोस्सा में दरवाजा के फटाक से बंद करते।

नताशा लाल हो गेलइ आउ कइसूँ विचित्र ढंग से हमरा दने तकलकइ। एहे दौरान चाय परसल गेलइ, आउ एकरे साथ नाश्ता भी; शिकार पक्षी के मांस, कइसनो मछली, एलिसेयेव (Eliseyev) से उत्तम शराब के दू बोतल। «काहे लगी ई सब तैयार कइल गेलइ?» हम सोचलिअइ।

"ई हम, देखऽ हो, वान्या, अइकी कइसन हिअइ", नताशा कहलकइ, टेबुल भिर जइते आउ हमरो भिर सकुचइते। "आखिर हमरा आभास हलइ, कि ई सब कुछ आझ अइसीं होतइ, जइसन कि होलइ, लेकिन तइयो सोच रहलिए हल, कि शायद, हो सकऽ हइ, अइसन नहिंयों होवइ। अल्योशा अइतइ, शांति के बात करतइ, हमन्हीं समझौता कर लेते जइबइ; हमर सब शंका निराधार ठहरतइ, हमर विश्वास के गलत साबित कइल जइतइ, आउ ... कहीं जरूरत नञ् पड़ जाय, एकरा लगी नाश्ता भी तैयार कइलिअइ। एकरा में की हइ, हम सोचलिअइ, देर तक गप मारते रहबइ, देर तक बैठबइ ..."

बेचारी नताशा! ऊ एतना लाल हो गेलइ, ई बोलते। अल्योशा हर्षावेश में आ गेलइ।

"अइकी देखऽ हो, नताशा!" ऊ चिल्लइलइ। "तूँ खुद पर विश्वास नञ् करऽ हलऽ; दुइए घंटा पहिले अपन शंका पर विश्वास नञ् करऽ हलऽ! नञ्, ई सब के ठीक कइल जाय के चाही; हम दोषी हियो, हम सब कुछ के कारण हियो, हम सब कुछ के ठीक कर देबो। नताशा, हमरा अभिए पिताजी के पास जाय द! हमरा उनका देखे के हके; ऊ अपमानित अनुभव कइलथिन, तिरस्कृत; उनका सांत्वना देल जाय के चाही, हम उनका सब कुछ बतइबइ, हम खुद सब बतइबइ, खाली हम अकेल्ले बतइबइ; तूँ एकरा में शामिल नञ् होबऽ। आउ हम सब कुछ ठीक-ठाक कर देबइ ... हमरा पर गोस्सा नञ् करऽ, कि हम उनका हीं जाय लगी चाहऽ हियो आउ तोरा छोड़ देवे लगी चाहऽ हियो। अइसन बिलकुल नञ् हइ; हमरा उनका पर तरस आवऽ हइ; ऊ तोरा सामना सफाई देथुन; देखभो ... बिहान, जइसीं साफ होतो, हम तोरा हीं पहुँच जइबो, आउ दिन भर तोरा भिर, कात्या के हियाँ नञ् जइबो ..."

नताशा ओकरा नञ् रोकलकइ, हियाँ तक कि ओकरा जाय के सुझाव देलकइ। ओकरा बड़गो भय हलइ, कि अल्योशा अब जानबूझके, जबरदस्ती, ओकरा साथ दिन भर बैठल रहतइ आउ ओकरा बोर करतइ। नताशा खाली निवेदन कइलकइ, कि ऊ ओकरा तरफ से कुच्छो नञ् बोलइ, आउ ओकरा बिदा करते बखत खुशी से मुसकाय के प्रयास कइलकइ। अल्योशा निकसहीं वला हलइ, कि अचानक ओकरा भिर अइलइ, ओकर दुन्नु हाथ पकड़ लेलकइ आउ ओकरा बिजुन बैठ गेलइ। ऊ ओकरा दने अवर्णनीय स्नेह दृष्टि से देखे लगलइ।

"नताशा, मित्र हमर, देवदूत हमर, हमरा पर गोस्सा नञ् करऽ, आउ हमन्हीं कभियो नञ् लड़ते जाम। आउ हमरा वचन द, कि सब कुछ में हमरा पर हमेशे विश्वास करबऽ, आउ हम तोरा पर। "अइकी, हमर देवदूत, हम तोरा बतावऽ हियो अब - एक तुरी हमन्हीं दुन्नु लड़ाय करते गेलिए हल, आद नञ् काहे लगी; हम दोषी हलिअइ। हमन्हीं एक दोसरा से बात नञ् करऽ हलिअइ। हमरा पहिले माफी माँगे लगी नञ् चहलिअइ, आउ हम बहुत उदास हो गेलिअइ। हम शहर के चक्कर लगइलिअइ, सगरो भटकलिअइ, मित्र लोग के हियाँ भेंट देलिअइ, लेकिन हमर दिल एतना भारी हलइ, एतना भारी हलइ ... आउ तब हमर दिमाग में अइलइ - अगर तूँ, मसलन, कइसूँ बेमार पड़ गेलऽ आउ मर गेलऽ, तब? आउ जब ई कल्पना कइलिअइ, त [*322] हमरा अचानक अइसन निराशा होल, मानु हम वास्तव में तोरा हमेशे लगी खो देलूँ। हमर विचार अधिकाधिक कठिन आउ भयंकर होब करऽ हले। आउ अइकी धीरे-धीरे हम कल्पना करे लगलूँ, कि मानु हम तोहर कब्र भिर अइलूँ, ओकरा पर गिरके बेहोश हो गेलूँ, ओकरा गले लगा लेलूँ आउ उदासी के मारे सुन्न हो गेलूँ। हम कल्पना कइलिअइ, कि कइसे हम ई कब्र के गले लगइबइ, ओकरा में से तोरा पुकारबो, बल्कि एक्को मिनट लगी, आउ भगमान से चमत्कार लगी प्रार्थना करबइ, कि बल्कि एक्को पल खातिर हमरा सामने उठके आवऽ; हमरा लगलइ, कि कइसे हम तोरा झपटके गले लगइबो, अपन देह से चिपका लेबो, चुमबो आउ लगऽ हइ, हिएँ परमानन्द में मर जइबइ, ताकि बल्कि एक्को पल खातिर हम एक तुरी आउ, पहिलहीं नियन, तोरा गले लगा सकियो। आउ जब हम ई कल्पना कइलिअइ, त अचानक विचार अइलइ - हम भगमान से तोर एक पल खातिर प्रार्थना करबइ, आउ ई दौरान तूँ हमरा साथ छो महिन्ना हमरा साथ रहलऽ ह आउ ई छो महिन्ना में केतना तुरी हमन्हीं झगड़लिअइ, केतना दिन हमन्हीं एक दोसरा से नञ् बोललिअइ! दिन भर हमन्हीं झगड़ा में गुजार देलअइ आउ अपन खुशी के उपेक्षा कर देलिअइ, लेकिन हियाँ खाली एक मिनट खातिर तोरा कब्र से पुकारऽ हियो आउ ई मिनट खातिर सारी जिनगी चुकावे खातिर तैयार हियो! ... जब हम ई सब कल्पना कइलिअइ, त हम खुद के नियंत्रण नञ् कर पइलिअइ आउ जल्दी से जल्दी तोरा तरफ झपट पड़लियो, हियाँ दौड़ल अइलियो, आउ तूँ हमर इंतजार कर रहलऽ हल, आउ, जब हमन्हीं झगड़ा के बाद गले-गले मिललिअइ, त हमरा आद पड़ऽ हइ, कि हम तोरा एतना कसके छाती से लगइलियो, मानु वास्तव में हम तोहरा खो रहलियो ह। नताशा! हमन्हीं कभियो नञ् झगड़म! ई हमरा लगी हमेशे दुखदायी होवऽ हके! आउ, हे भगमान! ई संभव हइ सोचना, कि हम तोहरा छोड़ सकऽ हियो!"

नताशा रो रहले हल। ओकन्हीं कसके एक दोसरा के आलिंगनबद्ध हलइ, आउ अल्योशा एक तुरी फेर वचन देलकइ, कि ओकरा कभियो नञ् छोड़तइ। तब ऊ अपन बाप के हियाँ उड़नछू हो गेलइ। ओकरा पक्का विश्वास हलइ, कि सब कुछ ठीक हो जात, सब कुछ सुलझ जात।

"सब कुछ समाप्त हो गेलइ! सब खो गेलइ!" नताशा बोललइ, झटका से हमर हाथ दबइते। "ऊ हमरा प्यार करऽ हइ आउ कभियो हमरा प्यार करना बंद नञ् करतइ; लेकिन ऊ कात्या के भी प्यार करऽ हइ आउ कुछ समय के बाद ओकरा हमरा से जादे प्यार करतइ। आउ ई जहरीला प्रिंस ऊँघतइ नञ्, आउ तब ..."

"नताशा! हमरा खुद विश्वास हइ, कि प्रिंस सीधे तरह से व्यवहार नञ् करऽ हइ, लेकिन ..."

"तूँ ऊ सब कुछ पर विश्वास नञ् करऽ, जे हम ओकरा कहलिअइ। ई हम तोहर चेहरा से नोटिस कइलियो हल। लेकिन दम धरऽ, खुद्दे देखबऽ, कि हम सच हलिअइ, कि नञ्। हम आखिर खाली सामान्य रूप से बोललिए हल, लेकिन भगमान जाने, कि ओकर दिमाग में आउ कइसन विचार हइ! ई तो भयंकर व्यक्ति हइ! हम ई चार दिन कमरा में चहलकदमी कइलिअइ आउ सब कुछ के अंदाज लगा लेलिअइ। ओकरा बस खाली अल्योशा के मुक्त करे, ओकर उदासी से ओकर दिल के हलका करे के हलइ, जे ओकरा जीए में बाधक हलइ, ओकर हमरा प्रति प्रेम के कर्तव्य से (मुक्त करे आउ ओकर दिल के हलका करे के हलइ)। ऊ ई विवाह के बात सोचलकइ एहो लगी, कि हमन्हीं के बीच अपन प्रभाव के लेप लगा सकइ आउ अल्योशा के कुलीनता (nobility) आउ उदारता से मोहित कर सकइ। ई सच हइ, सच हइ, वान्या! अल्योशा अइसने चरित्र के हइ। ऊ हमरा तरफ से निश्चिंत रहतइ; ओकरा हमरा लगी चिंता दूर हो जइतइ। ऊ सकतइ - कि अब तो ऊ हमर पत्नी हकइ, हमरा साथ हमेशे लगी हइ, आउ स्वाभाविक रूप से कात्या तरफ जादे ध्यान देतइ। प्रिंस, साफ हइ, ई कात्या के अध्ययन कइलके ह आउ अंदाज लगा लेलके ह, कि ऊ ओकरा लगी जोड़ी हइ, कि ऊ ओकरा जादे आकृष्ट कर सकऽ हइ, बनिस्पत कि हम। ओह, वान्या! तोरा पर अब हमर पूरा आशा बन्हल हको - ऊ (प्रिंस) कोय कारण से तोरा साथ हिल्ले-मिल्ले लगी चाहऽ हको, परिचित होवे लगी। एकरा टालिहऽ मत आउ प्रयास करिहऽ, प्यारे, भगमान के नाम से जल्दी से जल्दी काउंटेस के पास पहुँच बनावे खातिर। ई कात्या के साथ परिचित होवऽ, ओकरा आउ बेहतर रूप से देखहो आउ हमरा बतावऽ कि ऊ कइसन हइ। हम चाहऽ ही कि तोहर नजर हुआँ रहे। कोय नञ् हमरा ओतना समझऽ हके, जेतना तूँ, आउ तूँ [*323] समझ पइबहो, कि हमरा की चाही। एहो पता लगाहो, कि केतना हद तक ओकन्हीं बीच मैत्रीपूर्ण संबंध हइ, ओकन्हीं बीच कउची हकइ, कउची बारे ओकन्हीं बात करते जा हइ; मुख्य रूप से, कात्या, आउ कात्या पर ध्यान दिहो ... एक तुरी आउ साबित करऽ, प्रिय, हमर प्यारे वान्या, हमरा एक तुरी आउ अपन मित्रता के साबित करऽ! तोहरा पर, खाली अब तोरा पर हमर भरोसा हको! ...

.....................................................

जब हम घर वापिस अइलिअइ, तब आधी रात से जादे हो गेले हल। नेली (Nellie) हमरा लगी दरवाजा खोललकइ, तखने ऊ निनारू हलइ। ऊ मुसकइलइ आउ हमरा तरफ निम्मन से देखलकइ। बेचारी के बहुत खेद हलइ कि ऊ सुत गेले हल। ओकरा हमरा लगी इंतजार करे के पूरा मन हलइ। ऊ कहलकइ, कि हमरा लगी कोय तो पुच्छे लगी अइलइ, ओकरा साथ बैठलइ आउ टेबुल पर नोट छोड़ गेलइ। नोट मस्लोबोयेव के तरफ से हलइ। ऊ बिहान खुद के हियाँ हमरा बोलइलके हल, बारह आउ एक बजे के बीच। हमरा नेली के पुच्छे के मन कइलकइ, लेकिन हम कल तक लगी स्थगित कर देलिअइ, ई बात पर दृढ़ होल कि ओकरा तुरते सुत्ते लगी जाय के चाही; बेचारी अइसूँ थक्कल हलइ, हमर इंतजार करते, आउ हमर आगमन के खाली आध घंटा पहिले ओकरा नीन पड़ गेले हल।

 

भूमिका               भाग 3, अध्याय 3              भाग 3, अध्याय 5