विजेट आपके ब्लॉग पर

Wednesday, September 13, 2006

मगही आन्दोलन

१. बोधगया से नालन्दा तक पैदल मगही जागरण मार्च

[मगही के विकास ला हरमेशा मगहिया भाई लोग सजग रहलन हे । बाकि मगही के साहित्यकार लोग १९७८ ई० से जादे सक्रिय होलन । मगही के महातम बतावे ला 'मगही जागरण मार्च' एकरे उदाहरण हल । तब से लेके अब तक धरना-प्रदर्शन लगातार होइत रहल हे । प्रस्तुत हे शुरुआत । आगे हरेक महीना में आन्दोलन के इतिहास के झलक देखावे के प्रयास कैल जायत ।]

१६-११-१९७८ के पटना में पारिजात प्रकाशन में अखिल भारतीय मगही साहित्य सम्मेलन के कार्यकारिणी के बैठक भेल । ओकरा में निश्चय भेल कि २३-१२-१९७८ से २६-१२-१९७८ तक बोधगया से नालन्दा तक एगो अध्ययन दल पैदल जागरण मार्च करे । जतरा में मगही साहित्यकारन से सम्पर्क कैल जाय । गड़ल-छिपल साहित्यकारन के प्रगट कैल जाय । साथे-साथे लोक-साहित्य, पुरातत्त्व आउ मगही शब्दरूप आदि के संग्रह आउ टेप कैल जाय । डॉ० राम प्रसाद सिंह, रासबिहारी पाण्डेय, रामदेव मेहता, जनकनन्दन प्रसाद सिन्हा 'जनक' आउ रामनरेश प्रसाद वर्मा मिलजुल के कार्यक्रम बनौलन। प्रमुख मगही साहित्यकार लोग के नेवतल गेल ।

ई ऐतिहासिक जतरा के प्रति काफी उत्साह आउ उमंग देखल गेल । २३-१२-१९७८ के सांझ खनी मगही कवि-लेखक लोग सम्मेलन कार्यालय नयी गोदाम, गया में पहुँचे लगलन । योगेश्वर प्रसाद सिंह 'योगेश', शेषानन्द मधुकर, रामविलास 'रजकण', रामनरेश प्रसाद वर्मा, रामदेव मेहता आउ हरीन्द्र विद्यार्थी पहुँचलन । रात में राम प्रसाद सिंह के निवास पर विश्राम आउ कवि-गोष्ठी भेल । ई गोष्ठी में मगही के वर्तनी पर भी विचार कैल गेल ।

२४-१२-१९७८ के स्वर्ण किरण, रामनरेश मिश्र 'हंस', हरिदास ज्वाल, जनकनन्दन प्रसाद सिन्हा 'जनक', बलिराम पाण्डेय आउ रासबिहारी पाण्डेय भी शामिल हो गेलन । सांझ के तीन बजे बोधगया के पुरान मन्दिर आउ आज के बनल विदेशी बौद्ध स्थल के दर्शन विवेचन कैल गेल । फिनो रात में राम प्रसाद सिंह के निवास पर कवि-गोष्ठी आउ संगीत के कार्यक्रम भेल । लेखक लोग उहें विश्राम कयलन ।

२५-१२-१९७८ के सुबह ८ बजे लेखक लोग के रासबिहारी पाण्डेय हीं नास्ता भेल । गया के नागरिक लोग पत्रकार सम्मेलन कार्यालय में यात्री लोग के माला पेन्हयलन, बैज लगयलन आउ यात्रा के सफलता ला शुभकामना कयलन ।

ठीक ९ बजके १० मिनट पर गया के चौक से मगही साहित्यकार लोग के यात्रा शुरू भेल । इनकर अगुआई राम प्रसाद सिंह कयलन । ई जत्था में रामनरेश मिश्र 'हंस', योगेश्वर प्रसाद सिंह 'योगेश', रासबिहारी पाण्डेय, शेषानन्द मधुकर, रामदेव मेहता, जनकनन्दन प्रसाद सिन्हा 'जनक', हरिदास ज्वाल, रामनरेश प्रसाद वर्मा, राम विलास 'रजकण', हरीन्द्र विद्यार्थी, श्रीकान्त जैतपुरिया, शिवनारायण प्रसाद, उपेन्द्रनाथ वर्मा, बलिराम पाण्डेय, के०एन० झा आदि शामिल हलन ।

गया से चलके ई मगही अध्ययन दल १२ बजे सिंगठिया गाँव पहुँचल जहाँ श्री नरेन्द्र सिंह जी काफी स्वागत कयलन । उहें भोजन आउ विश्राम भेल । फिर संगीत आउ कवि-गोष्ठी भेल, जेकर अध्यक्षता रामाशीष सिंह कयलन । कविता पाठ वीर कवीन्द्र सिंह, चन्देश्वर सिंह, रामाशीष सिंह, रामदहीन सिंह, नागदेव सिंह, 'योगेश' जी, हरीन्द्र विद्यार्थी, रामनारायण वर्मा, रामदेव मेहता, मुकुल जैतपुरिया, 'जनक' जी, उपेन्द्र नाथ वर्मा, शिवनारायण प्रसाद आदि कयलन । डॉ० राम प्रसाद सिंह यात्रा के उद्देश्य पर प्रकाश डाललन आउ साहित्यकारन के परिचय देलन । ग्राम पंचायत के मुखिया रविनन्दन सिंह आदि वजीरगंज तक पैदल यात्रा में साथ देलन ।

जत्था ३ बजे वजीरगंज पहुँचल, जेकरा में जयराम सिंह, राधाकृष्ण राय, रामनाथ शर्मा, रामपुकार सिंह, कैलाशपति शुक्ल आदि मगही के विद्वान आउ साहित्यकार शामिल भेलन । वजीरगंज में साढ़े तीन बजे से साढ़े चार बजे तक राम पुकार सिंह के अध्यक्षता में वार्ता आउ कवि-गोष्ठी भेल । एकरा में कुर्की हाट, सीतामढ़ी आदि मगह के पौराणिक स्थान के बारे में चर्चा भेल ।
अब २९ साहित्यकारन के दल वजीरगंज से पाँच बजे चलके रात में सात बजे राजगीर पहुँचल । राजगीर के सरस्वती भवन में सांस्कृतिक कार्यक्रम आउ कवि सम्मेलन के आयोजन कैल गेल । ई जत्था में तारकेश्वर भारती, डॉ० सरयू प्रसाद, श्रीनन्दन शास्त्री, इन्द्रदेव सिंह, प्रो० लक्ष्मण प्रसाद 'चन्द', भारत भारद्वाज आदि शामिल भेलन । कुल संख्या ३७ हो गेल ।

राजगीर के सरस्वती भवन में सुरेन्द्र प्रसाद तरुण जत्था के स्वागत कयलन । इहाँ सांस्कृतिक कार्यक्रम आउ कवि-सम्मेलन भेल, जेकरा में भारी संख्या में स्थानीय श्रोता आउ मगही प्रेमी भाग लेलन । अध्यक्षता कैलन डॉ० सरयू प्रसाद । स्वागत भाषण में तरुण जी कहलन कि ई दल मगही के विकास, प्रचार-प्रसार आउ रचना के बढ़ावे में काफी मदद करत । मगही साहित्य के प्रकाशन ला लमहर कोष जमा करे के जरूरत हे । राम प्रसाद सिंह जतरा के कार्यक्रम आउ उद्देश्य पर प्रकाश डाललन ।

ई जतरा से मगही भासी जनता आउ साहित्यकार के बीच नया सम्बन्ध बनल । एकरा से नया चेतना आउ भाव विकसित होयल । पौराणिक स्थल के पुरातात्त्विक आउ सांस्कृतिक अध्ययन भी होयल । लोककथा, लोकगीत के सहेजे के जरूरत समझल गेल । तारकेश्वर भारती नालन्दा जिला मगही साहित्य सम्मेलन के तरफ से दल के स्वागत कैलन ।

डॉ० सरयू प्रसाद के अध्यक्षता में विचार-गोष्ठी के कार्यक्रम कवि-सम्मेलन के रूप में बदल गेल । कवि-सम्मेलन रात के ९ बजे से १२ बजे तक चलल । फिन भोजन के बाद सुबह ४ बजे तक कविता पाठ आउ विचार-विमर्श होइत रह गेल । ई कवि-सम्मेलन में श्रीनन्दन शास्त्री, 'योगेश' जी, जयराम सिंह, शेषानन्द मधुकर, राम विलास 'रजकण', श्रीकान्त जैतपुरिया, रामनरेश मिश्र 'हंस', स्वर्ण किरण, रामनरेश प्रसाद वर्मा, इन्द्रदेव सिंह, लक्ष्मण प्रसाद 'चन्द', दसईं सिंह, जनकनन्दन प्रसाद, रामदेव मेहता, हरिदास ज्वाल, शिवनारायण प्रसाद, हरीन्द्र विद्यार्थी, भारत भारद्वाज, रामनाथ शर्मा, राम पुकार सिंह, उपेन्द्र नाथ वर्मा आउ बलिराम पाण्डेय भाग लेलन । रासबिहारी पाण्डेय धन्यवाद देलन । भोजन आउ रहे के व्यवस्था तरुण जी द्वारा कैल गेल ।

२६-१२-१९७८ के सुबह में अध्ययन दल राजगीर के गर्म झरना में नहयलक । पुरान स्थल के अध्ययन कैल गेल । जैन धर्मशाला में तरुण जी नाश्ता आउ कवि-गोष्ठी के आयोजन कयलन । सुबह में मगही के वर्तनी आउ शब्दरूप पर विचार कैल गेल । ई तरह से मगध के पुरान राजधानी राजगीर में १८ घंटा रहके पुरातत्त्व तथा लोक साहित्य के अध्ययन कैल गेल । रामनरेश प्रसाद वर्मा आयोजक के आभार प्रगट कैलन ।

मगही जागरण दल १२ बजे नालन्दा के तरफ चल पड़ल । एक बजे नालन्दा पहुँच के बगल के गाँव कपटिया में प्रो० परमेश्वर दयाल हीं दल के भोजन भेल । नालन्दा के पुरान खंडहर के अध्ययन आउ परिदर्शन कैल गेल । फिनो ४ बजे लोग उहाँ से बिहार शरीफ ला रवाना भेलन । बिहार शरीफ के महत्त्वपूर्ण स्थान देखइत दल ६ बजे पटेल कॉलेज, उदन्तपुरी, बिहार शरीफ पहुँचल । इहाँ दल के भोजन आउ विश्राम के व्यवस्था प्रो० दसईं सिंह कयलन, जिनका प्रो० आनन्दी प्रसाद, जनार्दन प्रसाद सिन्हा आउ प्रो० अवधेश नारायण सिंह के विशेष सहजोग मिलल ।

बिहार शरीफ पटेल कॉलेज में रात ८ बजे से जत्था के कार्यक्रम शुरू भेल, जेकर अध्यक्षता तारकेश्वर भारती कैलन । दल के स्वागत कैलन सरयू प्रसाद । ई अवसर पर डॉ० सरयू प्रसाद मगही के ध्वनि विज्ञान आउ वर्तनी पर अप्पन विद्वत्तापूर्ण स्थापना वक्तव्य देलन । कार्यक्रम के उद्घाटन रामनरेश मिश्र 'हंस' कैलन । इहाँ हरिश्चन्द्र प्रियदर्शी, रामचन्द्र प्रसाद 'अदीप', कमलाकान्त पाठक, अयोध्यानाथ शांडिल्य, सौरभ प्रसाद आदि शामिल हो गेलन । विचार-गोष्ठी भेल । धन्यवाद ज्ञापन रासबिहारी पाण्डेय कैलन । कवि सम्मेलन रात के १ बजे तक चलल, जेकरा में दल के पुरान कवि के अलावे लक्ष्मण प्रसाद 'चन्द', सरयू प्रसाद, डॉ० आर. ईसरी अरशद, दसईं सिंह आदि भाग लेलन ।

२७-१२-१९७८ के डॉ० सरयू प्रसाद के निवास स्थान अम्बेर, बिहार शरीफ में अध्ययन दल के समापन कार्यक्रम भेल । विषय प्रवर्त्तन करइत डॉ० सरयू प्रसाद कहलन कि हमनी १९६० में संस्थापित मगध शोध संस्थान के फिनो जियावल चाहित ही । एकर उद्देश्य आउ कार्यक्रम बड़का गो हल जे अभी तक अछूता हे । लोक-संस्कृति, बौद्ध-जैन संस्कृति, पत्रकारिता आउ ध्वनि विज्ञान जइसन विषय के स्वतन्त्र पढ़ाई कउनो विश्वविद्यालय में न हो रहल हे । ई शोध संस्थान ई अभाव के पूरा करत । ई अवसर पर बोलइत श्रीनन्दन शास्त्री कहलन कि सब क्षेत्र के संस्था के एकजुट होके काम करे के चाही । अन्त में डॉ० राम प्रसाद सिंह सब विद्वान साहित्यकारन के प्रति आभार प्रगट करइत कहलन कि आशा हे अपने लोग अइसहीं तकलीफ, कष्ट आउ दुख झेल के मगही के झण्डा बुलन्द कयले रहम ।

मगही जागरण दल पूरा जोश-खरोश के साथ अप्पन-अप्पन रास्ता नापलन ई संकल्प के साथ कि मगही भासा साहित्य के विकास आउ प्रचार-प्रसार ला हमनी सब कुछ कुर्बान कर देम । ई जतरा के तुलना स्वतन्त्रता आन्दोलन के 'डांडी मार्च' से मगही के 'डांडी मार्च' के रूप में कैल जाहे ।

--- हरीन्द्र विद्यार्थी, "अलका मागधी", सितम्बर २००६, पृ० ७-८.

२. इस्कूल-कौलेज में मगही के पढ़ाई

मगही प्रेमी साहित्यकार लोग हमेशा मगही के विकास चाहलन हे । मगही भासा आगे बढ़े, एकरा ला प्रयास होइत रहल हे । २४ मार्च १९८४ के 'अखिल भारतीय मगही भासा सम्मेलन' के तत्त्वावधान में मगही के प्रमुख साहित्यकारन के शिष्टमंडल इण्टरमीडियट शिक्षा परिषद के अध्यक्ष डॉ० शालीग्राम सिंह से मिलल आउ उनका से इण्टरमीडियट कक्षा में मगही के पढ़ाई शुरू करे के मांग कैलक । शिष्टमंडल में शामिल साहित्यकारन के नाम हे श्रीनन्दन शास्त्री, योगेश्वर प्रसाद सिंह 'योगेश', रास बिहारी पाण्डेय, रामनरेश प्रसाद वर्मा, उमेश्वर आउ प्रभात वर्मा ।

इण्टरमीडियट शिक्षा परिषद के अध्यक्ष डॉ० शालीग्राम सिंह मगही के पढ़ाई शुरू करे के संबंध में यथाशीघ्र ठोस कार्रवाई करे के आश्वासन देलन । ओकर बाद जब सिलेबस बनल, तब ओकरा में मगही के भी शामिल कर लेवल गेल । आज मगध क्षेत्र के ढेर कॉलेज में मगही के पढ़ाई हो रहल हे । अब तक सबसे जादे विद्यार्थी जउन कॉलेज से मगही विषय रखके इण्टर के परीक्षा देलन हे ओकर नाम हे पी० एन० कुशवाहा कॉलेज, अछुआ, पालीगंज, पटना । उहाँ मगही विभाग के अध्यक्ष हथ प्रो० दिलीप कुमार ।

२६ दिसम्बर १९९० के 'मगही साहित्यकार कलाकार परिवार' के तरफ से मगही के उपेक्षा पर गहरा चिन्ता प्रकट करइत महासचिव हरीन्द्र विद्यार्थी मांग कैलन कि बिहार के सभे विश्वविद्यालय में मगही के पढ़ाई शुरू कैल जाय । मगध विश्वविद्यालय, बोधगया से सम्बद्ध कौलेजन में तो बी० ए० ऑनर्स में मगही के पढ़ाई होयबे करऽ हे । ऊ मांग कैलन कि बिहार लोक सेवा आयोग के परीक्षा में भी वैकल्पिक विषय के रूप में मगही के शामिल कैल जाय ।

२२ फरवरी १९९९ के कुमारी राधा के निवास पर 'मगही साहित्यकार कलाकार परिवार' के अगुआई में मगही के विकास ला एगो बैठक भेल, जेकरा में सतीश कुमार मिश्र, घमंडी राम, हरीन्द्र विद्यार्थी, राजकुमार प्रेमी, राम गोविन्द यादव आउ डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य भाग लेलन । कुमारी राधा के अध्यक्षता में होयल ई बैठक में पटना विश्वविद्यालय में मगही के पढ़ाई शुरू करे ला संघर्ष तेज करे के निरनय लेवल गेल ।

'अखिल भारतीय मगही साहित्य सम्मेलन' के महासचिव हरीन्द्र विद्यार्थी एगो प्रेस वक्तव्य जारी कर के पटना विश्वविद्यालय में मगही के पढ़ाई शुरू करे के मांग कैलन, साथे-साथे एहु घोसना कैलन कि एकर समर्थन में २२ जून के विश्वविद्यालय के गेट पर धरना देवल जायत । फिर दिनांक २२.६.२००० ई. के पटना विश्वविद्यालय के प्रवेश द्वार पर धरना सह नुक्कड़ कविता पाठ के आयोजन सम्मेलन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य के अध्यक्षता में होयल । कविता पाठ करे ओलन प्रमुख कवियन के नाम हे - हरीन्द्र विद्यार्थी, डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य, चन्द्रप्रकाश माया, घमंडी राम आउ राजकुमार प्रेमी । ई धरना में छात्र नेता मनोज कुमार के नेतृत्व में एगो संघर्ष समिति के गठन भी कैल गेल ।

'अखिल भारतीय मगही साहित्य सम्मेलन' के तत्त्वावधान में १०.०६.२००१ ई. के मगही साहित्यकार हरीन्द्र विद्यार्थी, डॉ० सत्येन्द्र कुमार सिंह आउ गौतम विन्ध्यपुत्र के तीन सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल मगध विश्वविद्यालय के कुलपति बी० एन० रावत से मिलके एम०ए० में मगही के पढ़ाई शुरू करे ला ज्ञापन देलक । कुलपति महोदय ई मांग पर विचार करे के आश्वासन देलन ।

१९ फरवरी २००४ ई. के 'मगही बचाओ अभियान समिति' के तत्त्वावधान में पटना विश्वविद्यालय के प्रवेश द्वार पर दिन भर धरना देवल गेल । एगो पाँच सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल कुलपति के. के. झा से मिलके पटना विश्वविद्यालय में आई. ए. से लेके एम. ए. तक के वर्ग में मगही के पढ़ाई शुरू करे के मांग कैलक । कुलपति महोदय ओकरा पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करेके आश्वासन देलन । धरना पर ३३ साहित्यकार लोग दिन भर बइठलन । प्रमुख नाम हे - हरीन्द्र विद्यार्थी, डॉ० राम प्रसाद सिंह, डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य, प्रो० दिलीप कुमार, डॉ० सत्येन्द्र कुमार सिंह, घमंडी राम, प्रभात वर्मा, डॉ० उमाशंकर सिंह, डॉ० बी. एस. लाल, चन्द्रप्रकाश माया, राम पुकार कुशवाहा, शिव प्रसाद लोहानी, राम गोविन्द यादव, लालमणि कुमारी, अरुण कुमार गौतम आउ सीताराम यादव ।

एतना मेहनत कैला के बाद भी मगध विश्वविद्यालय आउ पटना विश्वविद्यालय में तो मगही में एम. ए. के पढ़ाई शुरू न हो सकल, बाकि हरीन्द्र विद्यार्थी, घमंडी राम, डॉ० सत्येन्द्र कुमार सिंह आउ डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य के प्रयास से नालन्दा खुला विश्वविद्यालय में मगही में एम. ए. शुरू हो गेल हे । एकरा ला उहाँ के कुलपति श्री वी. एस. दूबे आउ उहाँ के को-ऑर्डिनेटर श्री पी. सी. पाण्डेय धन्यवाद के पात्र हथ ।

--- हरीन्द्र विद्यार्थी, "अलका मागधी", अक्टूबर २००६, पृ० ५.

३. आकाशवाणी आउ दूरदर्शन से मगही कार्यक्रम

मगही के हर जगह उचित स्थान दिलावे ला आन्दोलन तो बहुत पहिलहीं से होते आ रहल हे, बाकि १९७८ ई० से ई जादे जोर पकड़लक । ओन्ने बोधगया से नालन्दा तक पैदल 'मगही जागरण मार्च' निकलल, एन्ने पटना में बिहार सरकार से मांग होवे लगल कि 'मगही अकादमी' के स्थापना कैल जाय ।

केन्द्रीय मगही परिषद्, पटना के सतीश कुमार मिश्र, घमंडी राम आउ 'मगही छात्र संघर्ष समिति' के हरीन्द्र विद्यार्थी, संतोष कुमार सिन्हा आदि बिहार सरकार से मांग कैलन कि बिहार सरकार दोसर भाषाई अकादमी जइसन 'मगही अकादमी' के स्थापना करे ।

ओन्ने ७ जून १९७८ के हरीन्द्र विद्यार्थी आउ श्याम नारायण पटेल के संयुक्त नेतृत्व में 'मसौढ़ी मगही परिषद्' के गठन कैल गेल, जेकरा में मगही भासा के विकास के संकल्प लेवल गेल । ई संगठन ' केन्द्रीय मगही परिषद्, पटना' के साथे मिलके केन्द्र सरकार से मांग कैलक कि मैथिली आउ भोजपुरी नियर आकाशवाणी पटना से मगही कार्यक्रम शुरू कैल जाय ।

फिर नवम्बर १९७८ में आकाशवाणी पटना में मगही कार्यक्रम के प्रसारण ला केन्द्र निदेशक के ज्ञापन देवल गेल । केन्द्र निदेशक निर्मल सिकदर से मिलेवला प्रतिनिधि मंडल में शामिल हलन सतीश कुमार मिश्र, राम सिंहासन सिंह 'विद्यार्थी' आउ शिल्पी सुरेन्द्र । फिर २० नवम्बर १९७८ के आकाशवाणी पटना के प्रवेश द्वार पर अनशन-धरना के कार्यक्रम शुरू भेल । पहिला दिन शिल्पी सुरेन्द्र दिन भर अनशन पर रहलन । उनका अलावे ढेर लोग धरना पर बइठलन ।

दुसरका दिन राम पुकार सिंह राठौर आउ तिसरका दिन निर्मल नागेन्द्र के नेतृत्व में भारी संख्या में लोग धरना पर जुटलन । अप्पन उपस्थिति से आन्दोलन के मजबूत बनावेओला में प्रमुख नेता लोग के नाम हे शंकर दयाल सिंह, रामप्रीत पासवान, गुणानन्द ठाकुर । इनका अलावे राम गोपाल शर्मा 'रुद्र', केशरी कुमार, कुमारी राधा आउ राम नरेश पाठक भी धरना में शामिल होलन ।

धरनार्थी लोग के संकल्प आउ विद्रोही तेवर से तत्कालीन प्रशासन कोई तरह के अप्रिय घटना होवे के आशंका से घबरा गेल । फिर केन्द्र निदेशक निर्मल सिकदार आउ चतुर्भुज जी के प्रयास से केन्द्रीय नेतृत्व से बातचीत हो गेल आउ आश्वासन मिलल कि अगला ४८ घंटा के अन्दर काररवाई होयत ।

आखिर २५ नवम्बर के सूचना मिल गेल कि आकाशवाणी के पटना केन्द्र से मगही कार्यक्रम 'मागधी' शुरू होयत । सतीश कुमार मिश्र के नेतृत्व में गठित संस्था 'मगही साहित्यकार कलाकार परिवार' के अथक परिश्रम के फल मिलल । कठिन परिस्थिति आउ अर्थाभाव के बावजूद मिश्र जी ई आन्दोलन के सफलतापूर्वक निर्वाह कैलन । बाद में एकर श्रेय आउ वाहवाही लूटेवला के कमी न रहल ।

बाद में एकर खुशी में पटना के सांस्कृतिक संस्था 'संगीत सुषमा' के कार्यालय में विजय गोष्ठी होयल, जेकरा में सत्यदेव नारायण अस्थाना, राम नरेश पाठक, टी०पी० नारायण शर्मा, मृत्युंजय मिश्र 'करुणेश', शिल्पी सुरेन्द्र, राम पुकार सिंह राठौर, निर्मल नागेन्द्र, विजय नन्दन प्रसाद, राम सिंहासन सिंह 'विद्यार्थी', कुमारी राधा, सीताराम यादव, हरीन्द्र विद्यार्थी, विजय कुमार, पशुपति सिंह, सरयू प्रसाद, सुरेन्द्र निर्द्वन्द्व, रघुनाथ प्रसाद ‘विकल’, यदुनन्दन प्रसाद सिंह आउ रत्नेश्वर प्रसाद सम्मिलित होलन ।

१३ मार्च १९९१ के 'मगही साहित्यकार कलाकार परिवार' के तरफ से अखबार में हरीन्द्र विद्यार्थी के बेयान छपल कि पटना दूरदर्शन द्वारा मगही भासा के साथ सौतेला व्यवहार करल जाइत हे । लोकगीत के कार्यक्रम में 'जट-जट्टिन' गीत के प्रसारण 'भोजपुरी गीत' कहके कैल गेल, जे मगही भासा के साथ घोर अन्याय हे काहेकि 'जट-जट्टिन' के जउन गीत प्रसारित होयल से मगही भासा में हल ।

१२ नवम्बर १९९२ के अखबार में समाचार आयल कि पटना दूरदर्शन के द्वारा मगही भासा के साथ घोर अन्याय हो रहल हे, जे अब बरदास्त न कैल जायत । 'मगही साहित्यकार कलाकार परिवार' के तरफ से दूरदर्शन के गेट पर धरना देवे के धमकी देवल गेल ।

१५ अक्टूबर १९९३ के 'मगही साहित्य सम्मेलन, बिहार' आउ 'मगही अकादमी, गया' द्वारा संयुक्त रूप से पटना दूरदर्शन के गेट पर धरना देवल गेल । प्रमुख मांग हल कि पटना दूरदर्शन से मगही भासा में साहित्यिक आउ सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रसारित कैल जाय । एकरा अलावे पटना दूरदर्शन आउ आकाशवाणी पटना से मगही में नियमित रूप से समाचार भी प्रसारित कैल जाय । साथे-साथ कुछ आउ मांग भी रखल गेल हल, जेकरा में प्रमुख हल - विश्वविद्यालय में मगही में स्नातकोत्तर विभाग खुले, भारतीय संविधान के अठवाँ अनुसूची में मगही के शामिल कैल जाय आउ 'साहित्य अकादमी, दिल्ली' मगही के भासा के रूप में मान्यता देवे । दूरदर्शन के प्रवेश द्वार पर दिन भर धरना चलल, जेकर नेतृत्व कैलन डॉ० राम प्रसाद सिंह, हरीन्द्र विद्यार्थी, अभिमन्यु प्रसाद मौर्य, केशव प्रसाद वर्मा, महेन्द्र प्रसाद 'देहाती' आउ डॉ० सम्पत्ति अर्याणी । ई धरना में दिलीप कुमार, रामविलास 'रजकण', राम पारिख आउ हरिदास ज्वाल भी शामिल होयलन ।

सांझ के दूरदर्शन के प्रभारी निदेशक ए.के. विश्वास के एगो ज्ञापन देवल गेल । शिष्टमंडल के ऊ भरोसा दिलयलन कि उनकर मांग पर उचित काररवाई करेला केन्द्र सरकार के पास लिखल जायत । परिणाम ई भेल कि १९९३ में ही दूरदर्शन के उपनिदेशक पी.के. पटेल बिहारी लोकभासा के कवि-सम्मेलन के दूरदर्शन पर प्रसारण करवैलन, जेकरा में मगही के अलावे मैथिली आउ भोजपुरी कविता के भी स्थान देवल गेल ।

मगही आउ अन्य बिहारी लोकभासा के पटना दूरदर्शन से प्रसारण ला ३० दिसम्बर १९९८ के 'जनवादी लेखक संघ' पटना जिला शाखा के साहित्यकार लोग पटना दूरदर्शन के केन्द्र निदेशक से मिललन । शिष्टमंडल के सदस्य हरीन्द्र विद्यार्थी, डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य, राम बिनय सिंह 'विनय', राम गोविन्द यादव, राम पुकार कुशवाहा, श्रीकान्त व्यास, रश्मि गुप्ता आउ अभियन्ता ए.के. झा भाग लेलन । एगो सात सूत्री मांग पत्र देवल गेल जेकरा में प्रमुख हल - महीना में एगो कवि-गोष्ठी, लोक साहित्य के सब विधा के कार्यक्रम, मगध क्षेत्र के प्रमुख पर्यटन स्थल के दर्शन आउ सांस्कृतिक समाचार । दूरदर्शन के तरफ से मांग पर सहानुभूति पूर्वक विचार करे के आश्वासन मिलल ।

'लोकभासा विकास मंच' के महासचिव हरीन्द्र विद्यार्थी पटना दूरदर्शन द्वारा बिहार के लोकभासा के उपेक्षा के आरोप लगयलन । एकरा ला २२-१२-१९९९ के एगो प्रतिनिधि मंडल अप्पन छव-सूत्री मांग के समर्थन में पटना दूरदर्शन के उपनिदेशक प्रह्लाद पटेल से मिलल । प्रतिनिधि मंडल में महासचिव के अलावे चन्द्र प्रकाश माया, श्रीकान्त व्यास आउ घमंडी राम शामिल हलन । मांग रखल गेल कि मगही, मैथिली, भोजपुरी, अंगिका आउ बज्जिका के दूरदर्शन पर स्वतन्त्र प्रसारण कैल जाय । लोकभासा कविगोष्ठी के प्रसारण नियमित रूप से होवे । साहित्यिक एवं सांस्कृतिक गतिविधि के छायांकन आउ प्रसारण होवे । लोक साहित्य के नाम पर फूहड़ सिरियल पर रोक लगे । बनावटी के जगह मौलिक चीज देखावल जाय । बिहार के पर्यटन स्थल के इतिहास के साथ छायांकन आउ प्रसारण होवे । बिहार के संस्कृति के रक्षा होवे आउ कलाकार लोग के उचित पारिश्रमिक देवल जाय ।

१९ जनवरी २००० ई. के 'लोकभासा विकास मंच' द्वारा प्रधान मंत्री, सूचना एवं प्रसारण मंत्री, दूरदर्शन महानिदेशक के पास अलग-अलग पत्र लिखके लोकभासा मगही, मैथिली, भोजपुरी, अंगिका, बज्जिका आदि के उपेक्षा से संबंधित छव-सूत्री मांग के समर्थन में ज्ञापन भेजल गेल । ज्ञापन पर हस्ताक्षर कैलन हरीन्द्र विद्यार्थी, विजय गुंजन, चन्द्र प्रकाश माया, श्रीकान्त व्यास, बी.एन. विश्वकर्मा, अमंडी राम आउ चन्द्रावती चन्दन ।

आज भी मगही भासा के विकास ला आन्दोलन जारी हे । 'अखिल भारतीय मगही साहित्य सम्मेलन' के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य ई साल भी केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री के एगो मांग पत्र भेजलन हे जेकरा में आकाशवाणी पटना आउ पटना दूरदर्शन से मगही में समाचार प्रसारित करे के मांग कैल गेल हे ।

--- हरीन्द्र विद्यार्थी, "अलका मागधी", नवम्बर २००६, पृ० ५-६.

४. संविधान में मगही के स्थान देवल जाय

दिनांक ८-२-१९९७ के विधान पार्षद नवल किशोर यादव सहित दर्जन भर शिक्षक नेता मैथिली एवं भोजपुरी के संविधान के अष्टम सूची में शामिल करेला राज्य सरकार के द्वारा सिफारिश के स्वागत कैलन आउ मगही के भी संवैधानिक अधिकार दिलावे के मांग कैलन । मूटा अध्यक्ष प्रो० ठाकुर अवनीन्द्र कुमार सिंह, प्रो० काव्यनन्दन यादव, प्रो० हृदय नारायण सिंह, प्रो० राम नारायणी प्रसाद आउ डॉ० अलख निरंजन प्रसाद भी संयुक्त बेयान पर हस्ताक्षर कैलन ।

दिनांक ९-२-१९९७ के 'मिथिला जन विकास परिषद' के नवेन्दु कुमार झा भी मगही के संविधान के अष्टम सूची में शामिल करेला पुरजोर वकालत कैलन । ऊ कहलन कि मैथिली, भोजपुरी आउ मगही तीनों भासा के मान्यता बहिन के रूप में हे ।

दिनांक १२-२-१९९७ के मुख्य मंत्री से मगही के संविधान के अष्टम सूची में शामिल करेला अनुशंसा करे के मांग करल गेल, जेकरा में हरीन्द्र विद्यार्थी आउ घमंडी राम जबरदस्त अभियान चलौलन । भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) आउ भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माले) के तरफ से भी मगही के समर्थन में बेयान आयल । 'मगही साहित्य सम्मेलन, अछुआ, पालीगंज, पटना' के तरफ से प्रो० दिलीप कुमार भी आन्दोलन के तेज करेला संकल्प लेलन ।

'बिहार मगही मंडल, पटना' के तरफ से डॉ० रामनन्दन भी मैदान में उतर गेलन । इनकर कहना हल कि मगही के परम्परा मैथिली आउ भोजपुरी के अपेक्षा जादे समृद्ध रहल हे । मगही के धरोहर भी गौरवशाली हे । केन्द्र सरकार के भूमिका भेदभावपूर्ण आउ विषमता पैदा करेवला हे ।

'युवा जागरण मंच' के अरुण कुमार गौतम, 'अलका मागधी' के सम्पादक डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य, 'जनवादी लेखक संघ' के हरीन्द्र विद्यार्थी, घमंडी राम, डॉ० सत्येन्द्र कुमार सिंह, चन्द्र प्रकाश माया आदि आन्दोलन में तइयारी में जुट गेलन । आन्दोलनकारी लोग जगह-जगह पर नुक्कड़ सभा करके मुख्यमंत्री द्वारा अनुशंसा करे में मगही के साथ सौतेला व्यवहार के विरोध में जन-जागरण अभियान चलयलन ।

दिनांक २१-२-१९९७ के 'मगध विकास मोर्चा' के केन्द्रीय अध्यक्ष पूर्व विधायक कृष्णदेव सिंह यादव मगही के संविधान के अष्टम सूची में शामिल करेला मुख्यमंत्री से अनुशंसा करेला ज्ञापन देलन । ऊ जन आन्दोलन तेज करेला चेतावनी भी देलन । ई मामला पर 'युवा जागरण मंच' के प्रदेश अध्यक्ष अरुण कुमार गौतम मुख्यमंत्री आवास पर आत्मदाह करे के धमकी भी देलन । मगही साहित्यकारन में अइसन जोश आ गेल कि जगह जगह पर मगही क्षेत्र के नेता के घेराव होवे लगल ।

दिनांक १७-४-१९९७ के डॉ० उमाशंकर सिंह के दैनिक 'आज' में 'मगही सनेस' छपल जेकरा में ऊ राज्य सरकार के फटकारलन कि मैथिली आउ भोजपुरी के संविधान के अष्टम सूची में शामिल करेला अनुशंसा तो होवऽ हे, बाकि मगही के किनारे कर देवल जाहे । समाजिक न्याय के पहरुआ कहावेओला दुरंगिया नीति पर चल रहलन हे । मगही के अछूत समझल जा रहल हे । वाह रे न्याय !

दिनांक ३-३-१९९८ के अरुण कुमार गौतम के दैनिक 'हिन्दुस्तान' में बेयान आयल कि राज्य के १८ जिला में बोलल जायवला मगही भासा के साथ घोर अन्याय हो रहल हे ।

दिनांक २२-९-१९९८ के दैनिक 'आज' के 'भाषांजलि' कॉलम में हरीन्द्र विद्यार्थी मगही से जुड़ल सवाल पर अवाज उठयलन । उनका अनुसार डॉ० ग्रियर्सन के सात गो किताब मगही से जुड़ल हे । ऊ मगही के व्याकरण भी लिखलन हल । डॉ० सुनीति कुमार चाटुर्जा (चटर्जी) लोकभासा आउ साहित्य के पक्षधर हलन । चन्दवरदाई, विद्यापति, तुलसीदास, सूरदास, कबीर दास, भूषण, रैदास, बिहारी, रसखान, घनानन्द, रहीम, दरिया साहब आउ दादू जइसन श्रेष्ठ कवि लोग लोकभासा में ही लिखलन हल । डॉ० सुनीति कुमार के अनुसार भगवान बुद्ध के उपदेश पूर्वी बोली (मागधी) में ही हल जेकर अनुवाद मध्य प्रदेश के प्राचीन साहित्यिक भासा 'पाली' में भेल । पूर्वी बोली 'मागधी' सम्राट अशोक के राजभासा हल, काहे कि एही उनकर मातृभासा भी हल । मगध जनपद के जनभासा पहिले मूल मागधी, फिन पाली, फिन मागधी प्राकृत, फिन मागधी अपभ्रंश आउ अब मगही हे । चौरासी सिद्धन में पहिला सिद्ध सरहपाद हलन । उनकर 'दोहा कोश' मगही साहित्य के अमूल्य निधि हे । सिद्ध गोरखनाथ के गीत भी मगहिये में हे । एही भासा में आल्हा, लोरिकायन, सोरठी-बृजाभार, ढोला-मारू, नयका बंजारा, कुँवर विजयमल, गोपीचन्द भरथरी, बिहुला सती, रेशमा-चुहड़मल आउ जट-जटिन के गाथा गावल जाहे ।

दिनांक १३-१०-१९९८ के दैनिक 'आज' के 'भाषांजलि' कॉलम में हरीन्द्र विद्यार्थी मगही भासा के उपेक्षा पर गम्भीर लेख लिखलन । उनका अनुसार गंगा के दक्खिन, सोन से पूरब आउ बंगाल से पच्छिम बिहार प्रान्त के सउँसे क्षेत्र के प्रमुख भासा मगहिये हे । चार करोड़ से जादे अबादी वला भासा के दुरदुरावल जाइत हे । केन्द्र सरकार आउ राज्य सरकार दुन्नो मगही के धकिआइये रहल हे । शान्तिपूर्ण धरना, घेराव, भूख हड़ताल के अनसुना कैल जा रहल हे । सम्राट् अशोक के जिनगी के आखरी आदर्श अहिंसा पर चलेवला मगही भासी जनता के दुतकारल जा रहल हे ।

दिनांक ८-३-१९९९ ई० के 'अलका मागधी कार्यालय', पुराना जक्कनपुर, पटना में 'मगही साहित्यकार कलाकार परिवार' के अगुआई में मगही के विकास ला एगो गोष्ठी भेल, जेकर अध्यक्षता सतीश कुमार मिश्र आउ संचालन हरीन्द्र विद्यार्थी कैलन । गोष्ठी में कुमारी राधा, डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य, विजय गुंजन, घमंडी राम, अरुण कुमार सिन्हा, नन्दा मौर्य, राम लखन सिंह 'मयंक', रविन्द्र कुमार सिन्हा 'रवि', रघुवंश वर्मा आउ गुरुचरण बौद्ध आदि भाग लेलन । एगो प्रस्ताव पारित करके केन्द्र आउ राज्य सरकार से मगही के संविधान के अष्टम सूची में शामिल करेला मांग करल गेल । हरीन्द्र विद्यार्थी कहलन कि कम आबादी के बावजूद सिन्धी, डोगरी, कोंकणी, नेपाली आउ मणिपुरी अष्टम सूची में शामिल हे, जबकि मगही में पाँच सौ से जादे स्तरीय किताब छप चुकल हे । घमंडी राम कहलन कि एक तरफ भारतीय संविधान समता आउ समान अवसर के बात करऽ हे, दूसर तरफ मगही के साथ सौतेला व्यवहार हो रहल हे ।

दिनांक १५-४-१९९९ के ए० एन० सिन्हा इन्स्टीच्यूट, पटना में ‘मगही अकादमी, बिहार’ द्वारा आयोजित गोष्ठी में डॉ० सम्पत्ति अर्याणी कहलन कि मगही सब भासा के जननी हे, तइयो एकर उपेक्षा हो रहल हे । मगही क्षेत्र के नालन्दा विश्वविद्यालय जला देवल गेल आउ मगही भासा के उपेक्षा लगातार जारी हे । मगध विश्वविद्यालय के कुलपति बी० एन० रावत कहलन कि गरीब के भासा के हमेशा दबावल गेल हे ।

मगही के विकास ला गोष्ठी, सभा, बैठक, धरना, जुलूस, प्रदर्शन के ताँता लग गेल । नुक्कड़ कविता पाठ, नुक्कड़ नाटक के साथ कवि, साहित्यकार, रंगकर्मी लोग जुट गेलन मगही के अलख जगावे में । ई आन्दोलन बिहार के सउँसे मगही क्षेत्र के इलाका, गाँव, पंचायत, ब्लॉक आउ जिला भर में आँधी लेखा फैलइत गेल ।

दिनांक २३-१०-१९९९ के पटना जंक्शन स्थित नेहरू गोलम्बर पर 'अखिल भारतीय मगही साहित्य सम्मेलन' के अगुआई में एगो नुक्कड़ सभा भेल, जेकरा में जहानाबाद के 'मगही विकास मंच' के टीम 'अप्पन-अप्पन लक्कड़' नाटक खेललन । ऊ नाटक के माध्यम से प्राथमिक से लेके विश्वविद्यालय स्तर तक मगही के पढ़ाई के माँग कैल गेल । डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य के अध्यक्षता में भेल ऊ सभा में वक्ता लोग मगही के संविधान के अष्टम सूची में शामिल करे के माँग कैलन । घमंडी राम, डॉ० सत्येन्द्र कुमार सिंह, विश्वजीत कुमार अलबेला, राम बिनय सिंह 'विनय', राम गोविन्द यादव 'जानकीन्दु', अरविन्द कुमार आजाँस, विजय गुंजन, श्रीकान्त व्यास, अरुण कुमार गौतम, जयनन्दन ठाकुर, डॉ० बी० एस० लाल, अजीत कुमार मिश्र, चन्द्र प्रकाश माया, मुरारी शरण पाण्डेय, राजकुमार प्रेमी, प्रवीण कुमार राजू, अरुण कुमार सिन्हा, जगत नारायण सिन्हा, देवनन्दन ठाकुर, तारीक हारुण आउ हरीन्द्र विद्यार्थी अप्पन-अप्पन कविता सुनैलन । सभा के उद्घाटन विश्वनाथ मिश्र 'पंचानन' आउ धन्यवाद ज्ञापन डॉ० बी० एन० विश्वकर्मा कैलन ।

दिनांक ३०-१०-२००० ई० के १५ सूत्री तथ्य के साथ राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मानव संसाधन मंत्री आउ साहित्य अकादमी के सचिव के नाम 'अखिल भारतीय मगही साहित्य सम्मेलन' के महासचिव हरीन्द्र विद्यार्थी एगो पत्र लिखलन, जेकरा में संविधान के अष्टम सूची में शामिल करे आउ 'साहित्य अकादमी, दिल्ली' द्वारा मगही के भासा के रूप में मान्यता देवेला माँग कैलन ।


दिनांक १२-२-२००१ के 'मगध राज्य बचाओ संघर्ष मोर्चा' के अध्यक्ष लक्ष्मण ठाकुर के नेतृत्व में एगो प्रतिनिधि मंडल राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृह मंत्री आउ नेता प्रतिपक्ष से मिलके मगध राज्य के निरमान आउ मगही भासा के संविधान के अष्टम सूची में शामिल करेला एगो ज्ञापन देलक ।

दिनांक ३-८-२००१ के 'मगही अकादमी, बिहार' के बैठक भेल जेकरा अध्यक्षता कैलन अकादमी के अध्यक्ष डॉ० राम प्रसाद सिंह । ई बैठक में मगही साहित्य के प्रकाशन आउ मगही कार्यक्रम के आयोजन करेला निदेशक राजू कुमार विद्यार्थी द्वारा बिहार सरकार से आबंटित राशि बढ़ावे के माँग कैल गेल । बैठक में उपस्थित साहित्यकार डॉ० एस० एन० पी० सिन्हा, हरि उत्पल, अनिल सुलभ, हृदय नारायण झा, के० सी० वाजपेयी, घमंडी राम, उत्तम कुमार सिंह, हरीन्द्र विद्यार्थी, डॉ० रामनन्दन, राम नरेश प्रसाद वर्मा, वैद्यनाथ यादव, प्रभात वर्मा, डॉ० भरत सिंह, लालमणि कुमारी, दिनेश दिवाकर आउ डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य मगही के संविधान के अठवाँ सूची में शामिल करे के माँग कैलन ।

दिनांक १७-८-२००३ के 'मगही भाषा विकास संघर्ष समिति' के महासचिव हरीन्द्र विद्यार्थी भारत के राष्ट्रपति, प्रधान मंत्री, मानव संसाधन मंत्री, रेल मंत्री, गृह मंत्री आउ साहित्य अकादमी के अध्यक्ष के अलग-अलग पत्र लिखके मगही के संविधान के अठवाँ सूची में शामिल करेला, साहित्य अकादमी में भासा के दर्जा देवेला ज्ञापन देलन । माँग के समर्थन में ५७ पृष्ठ के एगो ज्ञापन भेजल गेल हल जेकरा पर ३२ गो साहित्यकार के हस्ताक्षर हल, जेकरा में प्रमुख हलन डॉ० सत्येन्द्र कुमार सिंह, घमंडी राम, चन्द्र प्रकाश माया, श्रीकान्त व्यास, बी० एन० विश्वकर्मा, डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य, सुमन्त, प्रभात वर्मा, राम गोविन्द यादव आउ अरुण कुमार गौतम । ऊ माँग पत्र में मगही के पक्ष में २३ गो तथ्यपरक आँकड़ा भी देवल गेल हल, जेकरा से मगही के दावा मजबूत हो सके ।

दिनांक २९-१२-२००३ ई० के 'अखिल भारतीय मगही साहित्य सम्मेलन' के तत्त्वावधान में 'अलका मागधी कार्यालय', पुराना जक्कनपुर, पटना में एगो बैठक भेल जेकर अध्यक्षता पं० सुदामा मिश्र आउ संचालन डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य कैलन । बैठक में मगही भासा के संविधान के अठवाँ अनुसूची में शामिल करेला आयकर गोलम्बर, पटना में १५ जनवरी के धरना देवे के निरनय कैल गेल । ई बैठक में हरीन्द्र विद्यार्थी, घमंडी राम, डॉ० सत्येन्द्र कुमार सिंह, अरुण कुमार सिन्हा, राकेश प्रियदर्शी, प्रभात वर्मा आउ नन्दा मौर्य शामिल भेलन ।

दिनांक १५-१-२००४ के 'अखिल भारतीय मगही साहित्य सम्मेलन' के तत्त्वावधान में सम्मेलन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य के अध्यक्षता में आयकर गोलम्बर, पटना में एगो विशाल धरना के आयोजन भेल । धरना के मुख्य माँग हल - (१) मगही भासा के संविधान के अठवाँ अनुसूची में शामिल करल जाय (२) साहित्य अकादमी, नई दिल्ली मगही के भासा के रूप में मान्यता देवे (३) संघ लोक सेवा आयोग आउ बिहार लोक सेवा आयोग के परीक्षा में मगही के एगो वैकल्पिक विषय के रूप में शामिल करल जाय । ई अवसर पर 'मगही अकादमी, बिहार' के निदेशक राजू कुमार विद्यार्थी कहलन कि मगही के संविधान के अठवाँ अनुसूची में शामिल न करना चार करोड़ मगही भासी जनता के साथ घोर अन्याय हे । मगही के जनता अब जादे दिन तक ई तरह के उपेक्षा बरदास्त न करत । सांसद राम कृपाल यादव कहलन कि मगही के अष्टम सूची में शामिल करेला हम संसद भवन में अवाज उठायम । धरना के सम्बोधन करेवला प्रमुख साहित्यकार हलन डॉ० रामनन्दन, हरीन्द्र विद्यार्थी, घमंडी राम, शेखर, डॉ० बी० एस० लाल, अरुण कुमार गौतम, सिद्धेश्वर, प्रभात वर्मा, विवश बिहारी, राजकुमार प्रेमी, राम बिनय सिंह 'विनय', कुमार इन्द्रदेव, विनीत कुमार मिश्र 'अकेला', अरविन्द कुमार मिश्र, रामरतन प्रसाद सिंह 'रत्नाकर', राम गोविन्द यादव 'जानकीन्दु', अरुण कुमार सिन्हा, जयराम प्रसाद, तौहिद अख्तर, राज कपूर, सुनील कुमार, नागेन्द्र सिंह यादव, ललन मिश्र 'मुक्त', आनन्द किशोर शास्त्री, विजय गुंजन, चन्द्र प्रकाश माया, अरविन्द कुमार आजाँस, शिवचन्द्र प्रसाद गुप्ता आउ प्रो० राम बुझावन सिंह ।

दिनांक २८-१-२००४ के 'मगही अकादमी, बिहार' के तत्त्वावधान में कंकड़बाग, पटना स्थित कार्यालय में एगो बैठक भेल जेकरा में पूर्व मुख्यमंत्री राम सुन्दर दास कहलन कि मगही मगध के मूल भासा हे । मगही बोलेओलन के संख्या बिहार में सबसे जादे हे । अइसन स्थिति में मगही के संविधान के अष्टम अनुसूची में शामिल न करना सरासर अन्याय हे । पटना विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति एस० एन० पी० सिन्हा कहलन कि मगही महात्मा बुद्ध के धम्म प्रचार के भासा हल । डॉ० ग्रियर्सन अप्पन डायरी में मगही के सब क्षेत्रीय भासा के जननी स्वीकार कैलन हे । मगही अकादमी के निदेशक राजू कुमार विद्यार्थी, हरीन्द्र विद्यार्थी, सत्येन्द्र कुमार सिंह, घमंडी राम, दिलीप कुमार, राम गोविन्द यादव, अभिमन्यु मौर्य आउ योगेश्वर सिंह 'योगेश' भी मगही के जोरदार वकालत कैलन ।

दिनांक १५-२-२००४ के 'मगही विकास मंच, जहानाबाद' के तत्त्वावधान में जहानाबाद के अरवल मोड़ पर धरना देल गेल । धरना स्थल पर मगही के संविधान के अठवाँ अनुसूची में शामिल करेला हस्ताक्षर अभियान चलावल गेल । हजारन लोग उहाँ उपस्थित होके आउ अप्पन हस्ताक्षर करके ई अभियान के समर्थन कैलन ।

--- हरीन्द्र विद्यार्थी, "अलका मागधी", जनवरी २००७, पृ० १०-१२.

५. मगही आन्दोलन के संक्षिप्त इतिहास

बौद्धकाल से मौर्यकाल तक मागधी प्राकृत के राष्ट्रभाषा हल (देखल जाय बुद्ध-वचन आउ अशोक के शिलालेख) । ओही मागधी प्राकृत आठवीं सदी आवइत-आवइत मागधी अपभ्रंश इया पुरनकी मगही के रूप में विकसित हो गेल आउ तेरहवीं सदी तक साहित्य के भासा बनल रहल । फिनो लोककंठ में जाके जीवित रहल जे उनइसवीं सदी तक आज वला रूप में प्रकट होयल ।
एही घड़ी कुछ विदेसी विद्वान के ध्यान भारत के भासा देन्ने गेल जेकरा में ग्रियर्सन, केल्लॉग, कनिंघम, जॉन क्राइस्ट आउ एसियाटिक सोसाइटी, कोलकाता आउ अन्य विदेसी विद्वान के नाम आवऽ हे । भारत के दोसर भासा नियन मगही भासा के भी खोजबीन कैल गेल । एकरा में लोक-साहित्य, संस्कृति, सामाजिक जीवन आउ रीति-रेवाज के सर्वेक्षण कैल गेल । एकरा में ग्रियर्सन सबसे पहिले मगही भासा के खोज-खबर कैलन । एकर व्याकरण पर भी विचार कयलन । बिहार के खेतिहर जीवन पर भी लिखलन (Peasant Life of Bihar) । ई तरह से विदेसी विद्वान से प्रभावित होके भारतीय विद्वान भी ई दिसा में काम शुरू कयलन ।
ई सब काम के नतीजा भेल कि बीसवीं सदी में मगही लोक-साहित्य के संग्रह के साथे मगही के शिष्ट-साहित्य भी लिखाय लगल । एकरे साथे मगही आन्दोलन के स्वरूप भी सामने आयल । पहिले-पहिले नालन्दा शोध-संस्थान के विद्वान निदेशक भिक्खु जगदीश कश्यप एकरा देन्ने मुखातिब भेलन, फिनो कृष्णदेव प्रसाद मगही में रचना करे लगलन आउ प्रचार-प्रसार ला निबंध लिखे लगलन ।
एकर बाद १९४५ ई० में एकंगरसराय में मगही के एगो बड़का सम्मेलन भेल । ऊ घड़ी श्रीकान्त शास्त्री के व्यक्तित्व मगही आन्दोलन में निखर के प्रकट भेल । ऊ एगो टीम बनौलन आउ मगही ला सभा-गोष्ठी के आयोजन करे लगलन । एकर प्रचार-प्रसार ला 'मगही' पत्रिका के प्रकाशन करौलन । फिनो 'बिहार मगही मंडल' के स्थापना भेल आउ 'बिहान' पत्रिका छपे लगल । ई सब काम में श्रीकान्त शास्त्री के टीम सक्रिय रहल, जेकरा में डॉ० रामनन्दन, डॉ० सम्पत्ति अर्याणी, डॉ० बिन्देश्वरी प्रसाद, प्रो० कपिलदेव सिंह, प्रो० राम बुझावन सिंह आउ राम बालक सिंह 'बालक' आदि के महत्त्वपूर्ण योगदान रहल । ई काल के आन्दोलन के मुख्य लक्ष्य हल मगही के महत्त्व बताना आउ ओकर प्रचार-प्रसार करना । ई काल के पुरोधा हलन श्रीकान्त शास्त्री ।
'मगही साहित्य का इतिहास' में पृष्ठ १२५-१२६ पर लिखल दस्तावेज के इहाँ ज्यों के त्यों उतार देल जा रहल हे - "इस प्रकार १९७३ ई. में डॉ० श्रीकान्त शास्त्री के निधन के बाद गया में डॉ० राम प्रसाद सिंह का उदय एक महान क्रान्ति लेकर आया । उन्होंने डॉ० शास्त्री के पौरोहित्य को बड़ी सफलता के साथ सम्हाला जो आज तक मगही आन्दोलन के केन्द्रीय व्यक्तित्व के रूप में प्रतिष्ठित हैं । डॉ० शास्त्री और डॉ० सम्पत्ति अर्याणी के साथ पूर्व में मगही के कार्य करने से और राजनेता जगदेव प्रसाद के सहयोगी रहने के कारण डॉ० राम प्रसाद सिंह में अपूर्व सांगठनिक क्षमता है । साथ ही वे बहु-आयामी प्रतिभा के धनी भी हैं ।"
इतिहास आगे लिखऽ हे - "डॉ० राम प्रसाद सिंह ने पटना और पटना जिले में फैले मगही आन्दोलन को वहाँ से निकालकर सम्पूर्ण मध्य और दक्षिणी बिहार के पठारी इलाकों में फैलाया । पटना से राँची तक मगही आन्दोलन का शोर मच गया । इसकी शुरुआत इन्होंने गया से की । २ अगस्त १९७७ ई. को मगही अकादमी, गया की स्थापना की गयी जिसका कार्यालय नई गोदाम, गया में रखा गया । इसी अकादमी के तत्त्वावधान में १८ और १९ फरवरी १९७८ ई. को अखिल भारतीय मगही साहित्य सम्मेलन का विशाल आयोजन गया में किया गया । इस सम्मेलन में प्रायः सभी मगही प्रेमी और साहित्यकारों ने भाग लिया । मगहीतर भाषा-भाषी विद्वान भी उपस्थित हुए, जिसमें लोकवार्ताविद् डॉ० कृष्णदेव उपाध्याय का योगदान सराहनीय रहा । सम्मेलन की अध्यक्षता डॉ० सम्पत्ति अर्याणी ने की और स्वागताध्यक्ष तत्कालीन राजस्व मंत्री उपेन्द्र नाथ वर्मा थे । दो दिवसीय सम्मेलन का सम्पूर्ण व्यवस्थापन और संचालन डॉ० राम प्रसाद सिंह ने किया । इसमें तत्कालीन डिप्टी कलेक्टर रास बिहारी पाण्डेय और कलेक्टर पी.पी.शर्मा का महत्त्वपूर्ण सहयोग मिला । कार्य व्वस्था और तैयारी में प्रो० राम नरेश प्रसाद वर्मा और राम विलास 'रजकण' की भूमिका सर्वोपरि रही । उनके अतिरिक्त गया के सभी मगही प्रेमी लेखक और पत्रकारों ने अपूर्व योगदान किया । दर्जनों साहित्यकारों को पुरस्कृत किया गया । दिवंगत साहित्यकारों के नाम पर अखंड दीप प्रज्वलित होता रहा । दो दिनों तक गया का परिवेश मगहीमय हो गया । इसमें अनेक प्रस्ताव पारित कर सरकार पर दबाव डाला गया । प्राथमिक विद्यालय से विश्वविद्यालय स्तर तक मगही की पढ़ाई हो, आकाशवाणी से मगही में प्रसारण हो, बिहार लोक सेवा आयोग में ऐच्छिक विषय के रूप में मगही को स्थान दिया जाय और भारत सरकार के संविधान की आठवीं सूची में मगही को शामिल किया जाय । ये सारे प्रस्ताव बिहार सरकार एवं केन्द्र सरकार तक प्रेषित किये गये । हजारों पत्र लिखे गये । तत्कालीन सभी पत्र-पत्रिकाओं ने उक्त सम्मेलन को समुचित स्थान देकर प्रकाशित किया । इस सम्मेलन से मगही भाषा-भाषी में एक नई चेतना जाग गयी । मगही की सभी छोटी-बड़ी संस्थाएँ और लेखक गण एकजुट होकर मगही के विकास में संलग्न हो गये ।"
सबसे पहिले मगही में एतना जादे प्रस्ताव पारित करके सब जगह भेजल गेल । ई सम्मेलन मगही आन्दोलन के माइल-स्टोन नियन हे, जे इतिहास में सोना के अक्षर में लिखल हे । एकरा से जानकारी होवऽ हे कि १८-१९ फरवरी १९७८ ई. में सबसे पहिले मगही के भारत के संविधान के आठवीं सूची में शामिल करे ला प्रस्ताव पास कैल गेल । ओकर बाद से जब भी कहिनो अखिल भारतीय मगही साहित्य सम्मेलन होयल इया मगही अकादमी के सम्मेलन होयल, ऊ सबमें ऊ सब प्रस्ताव दोहरावल जाय लगल । एकरा ला मगध के अनेक जगह पर धरना, प्रदर्शन, यात्रा आउ चिट्ठी लिखे के काम होइत रहल ।
ई सब काम में मगही के अनेक संस्था के सहयोग प्रशंसा करे जुकुर रहल हे । सब संस्था आउ ओकर सहयोगी टीम ई काम के अप्पन-अप्पन ढंग से आगे बढ़ौलन । ई काम पटना से लेके पलामू, हजारीबाग, रामगढ़, राँची तक होइत रहल, इतिहास एकर गवाह हे । बाकि पटना के कुछ लोग के काम (जइसे सतीश कुमार मिश्र, चन्द्रशेखर सिन्हा, घमंडीराम उर्फ रामदास आर्य, हरीन्द्र विद्यार्थी, केशव प्रसाद वर्मा, अभिमन्यु प्रसाद मौर्य, दिलीप कुमार आदि) मीडिया में आवे के चलते ज्ञात होइत रहल आउ दूर देहात के भारी-भरकम सभा आउ आन्दोलन के ओतना जादे प्रचार न भेल । तइयो महत्त्वपूर्ण पत्र-पत्रिका आउ आकाशवाणी के जहाँ तक जानकारी भेल, ओकरा प्रसारित करइत गेलन । बाकि दूर गाँव-देहात आउ कसबा में मगही ला कैल गेल आन्दोलन के काम के प्रकाश में लावे के जरूरत हे, ताकि इतिहास के अज्ञात सामग्री प्रकाश में आ सके ।
इहाँ इयाद करे जुकुर हे कि पटना से राँची तक मगही के महत्त्व ला कैल गेल ऐतिहासिक काम के वर्णन 'मगही साहित्य का इतिहास' में मिलऽ हे । ई सब काम में मगही साहित्यकारन के अलावे जउन राजनेता के सबसे जादे योगदान रहल हे, उनका में उपेन्द्र नाथ वर्मा आउ जीतन राम मांझी के नाम सबसे अगाड़ी लेल जा सकऽ हे । उपेन्द्र नाथ वर्मा लगभग सब सम्मेलन में भाग लेलन हे । रामगढ़, बाँके बजार, हसपुरा, गया, मखदुमपुर, बेलागंज आदि जगह के मगही महासम्मेलन में उपेन्द्र नाथ वर्मा अगाड़ी रहलन हे । एकरा अलावे 'डॉ० राम प्रसाद सिंह साहित्य पुरस्कार समारोह' के दर्जन भर महोत्सव में मुख्य अतिथि के रूप में वर्मा जी के योगदान सराहनीय रहल हे । इहाँ इयाद करे जुकुर हे कि ऊ सब आयोजन के केन्द्रबिन्दु में डॉ० राम प्रसाद सिंह के भूमिका महत्त्वपूर्ण रहल हे, जेकरा सब कोई जानऽ हथ ।
एकरा अलावे प्रो० राम नरेश प्रसाद वर्मा, डॉ० सरजू प्रसाद, हरिश्चन्द्र प्रियदर्शी, बाबूलाल मधुकर, डॉ० अभिमन्यु प्रसाद मौर्य, घमंडी राम, आउ हरीन्द्र विद्यार्थी आदि दोसर-दोसर सैकड़ो साहित्यकारन के सहयोग के भुलावल न जा सके । ई छोटगर निबंध के सैकड़ो साहित्यकारन के नाम न गिनावल जाय से उनकर अपमान न समझे के चाही । ओहनी तो नींव के ईंट हथ जे अप्पन मजबूत कान्हा पर मगही-महल के हरमेसे उठौले रहतन ।
ई सब साहित्यकार आउ राजनेता के काम आउ प्रेरणा से मगही आज अप्पन पहचान भारत के लोकभासा में मजबूती से बना लेलक हे । डॉ० राम प्रसाद सिंह साहित्य अकादमी, दिल्ली से पुरस्कृत हो चुकलन हे । २७-२८ बरिस से आकाशवाणी पटना से प्रसारण भी हो रहल हे । एन्ने दू बरिस से नालन्दा खुला विश्वविद्यालय में मगही एम.ए. के पढ़ाई आउ परीक्षा चल रहल हे । मगध विश्वविद्यालय में भी ई साल (जुलाई २००७) से मगही एम.ए. के विभाग चले लगल । एकरा ला मगध विश्वविद्यालय के एकेडेमिक काउंसिल से मंजूरी भी मिल गेल हे । पटना विश्वविद्यालय में भी ई साल से मगही एम.ए. के पढ़ाई शुरू होवे के संभावना हे ।
अब खाली मगही के भारतीय संविधान के आठवीं सूची में लगावे के सवाल हे । एकरा ला दिल्ली तक धरना-प्रदर्शन हो चुकल हे । अब आन्दोलन के तनि आउ जादे बढ़ावे के जरूरत हे, ताकि ई साल के अन्त तक मगही भी संविधान के ८वीं सूची में जुड़ जाय । बिहार के मगहिया मुख्यमंत्री माननीय नीतीश कुमार से निहोरा हे कि ई दिसा में उचित कारवाई करथ आउ मगही के भारत के संविधान के ८वीं सूची में लगवावथ, ताकि तीन करोड़ मगही भासा-भासी के भावना के संतुष्टि हो सके आउ धरना-प्रदर्शन में बेकार में शक्ति बरबाद न होवे ।

- लालमणि कुमारी, “अलका मागधी”, अक्टूबर २००७, बरिस १३, अंक १०, पृष्ठ ५-७.

६. महाधारना के आयोजन भेल

मगही विकास मंच, जहानाबाद के तरफ से जिला मुख्यालय स्थित अरवल मोड़ के समीप पहली जनवरी के प्रातः आठ बजे से साँझ पाँच बजे तक एगो विशाल धरना देवल गेल । ई धरना के उद्देश्य हल मगही भासा के संविधान के अष्टम अनुसूची में दर्ज करावे ला सरकार के ध्यान दिलावे के । कार्यक्रम के अध्यक्षता मंच के उपाध्यक्ष मुरारी शरण पाण्डे कैलन, जबकि संचालक हलन अरविन्द कुमार 'आजाँस' । धरना के सुरुआती दौर में युवा कवि विनीत कुमार मिश्र 'अकेला कहलन कि आज मगही भासा के बोले ओला लोग के संख्या पाँच करोड़ से ऊपर हे । मगह के क्षेत्रफल ४५०० वर्ग किलोमीटर से भी ऊपर हे । तइयो एकरा साथे न्याय न करल जाइत हे, हबकि एकरा से क्षेत्रफल में कम आउ बोलताहर के भी कम संख्या ओला भासा के राजनैतिक कारणवश केन्द्रीय सरकार मान्यता दे देलक ।


पटना से आएल रामध्यान शर्मा कहलन कि आज मगही भासा तनि पिछुआएल हे, त खाली ऑडियो-विडियो कैसेट्स आउ फिल्म निर्माण के क्षेत्र में । इहाँ गीतकार, पटकथा लेखक, कलाकार लोग के कमी न हे । कमी हे त बस पूँजी के । ओहू प्रयास कैला पर मिल सकऽ हे । मगही विकास मंच, जहानाबाद लगातार ई क्षेत्र में कदम बढ़ा रहल हे, जे ऐतिहासिक प्रयास हे । डॉ॰ बी॰ एस॰ लाल कहलन कि 'अब न त कभी न', माने कि एति घड़ी जब राज्य के मुख्यमंत्री मगध क्षेत्र के हथ, तब मगही भासा के विधान सभा से पास करा के दिल्ली न भेजल जाएत, त फिर कहियो न होयत । बुजुर्ग कवि राम विनय शर्मा 'विनय' कहलन कि अगर सरकार ई धरना के माध्यम से न जागत, त फिर निर्णायक लड़ाई पटना सचिवालय के गेट पर लड़ल जाएत । ऊ तमाम मगही प्रेमी साहित्यकार भाई से निहोरा कएलन कि अब आपसी भेदभाव मिटा के मगही भासा खातिर एकजुट होवे के समय आ गेल हे ।


राम नरेश 'नीरस' कहलन कि मगही भासा हमनी के मातृभासा हे जबकि हिन्दी राष्ट्रभासा, ई लेल जब तक मगही भासा के विकास न होवत, हिन्दी के प्रसार में संदेह रहबे करत । अजीत कुमार मिश्र 'अविनाश' अप्पन उद्बोधन में दस-सूत्रीमांग पेश करइत सरकारी तंत्र के आश्वासन के पोल खोललन । विश्वजीत कुमार 'अलबेला', राम नरेश शर्मा 'गुलशन', माधव सिंह, अमर अलंकृत, उमाशंकर सिंह 'सुमन', अरविन्द कुमार मिश्र 'मगहिया', डॉ॰ राजदेव प्रसाद, डॉ॰ रविशंकर शर्मा, डॉ॰ साधना शर्मा, श्रीमती सुनैना, शिवसुन्दर प्रसाद सिन्हा, सत्येन्द्र मिश्रा, शैलेन्द्र कुमार 'शैल', सुधाकर राजेन्द्र, मनोज कुमार 'कमल' आउ गोपाल शरण सिंह जइसन दर्जनों कवि दिन भर चलल महाधरना में मगही भासा के उत्थान आउ विकास ला अप्पन विचार देलन । अंत में एगो दस-सूत्री मांग जिलाधिकारी, जहानाबाद के सौंपल गेल । ( विनीत कुमार मिश्र 'अकेला', अलका मागधी, मार्च २००८, पृ॰ १९ )

5 comments:

राकेश पाठक said...

rauwa ke blog se kaphi jankari milalal......maghi bhasa ke itihas aur sahitya par ego lekh likhli hal danik jagran akhbar me u apne ke bhej dem ....hambhi is se judal rahli he......hamar ghar se maghi ke pratham haslikhit chhanyankit patrika bhi nikal hal ....sampadak halan Vijay Kumar dutta.

मगहिया said...

अपने के ब्लाग एकदम्मे से मगही के नयका रुप देवे के काम कर रहले हे , हमरा जैसन नयका लोगन जे कि मगही के बारे कुछो नय जानो हय उ तव इ सब पढ के निहाल हो जैयतै , हमहु मगही के कुछो योगदान देवेले चाहो हियै पर ई कईसे होतै जरी अपने बतैथिन हल तऔ नेहाल हो जितै , अपने के हम सुक्रगुजार हियै कि एतना बडिया - बढिया जानकारी दे रहलखिन हे

मगहिया said...

अपने से इगो आउर सवाल हय कि अभि के समय मे मगही आंदोलन के हेड के हखिन , अगर अपने के ई बारे में जानकारी हय तउ हमरा मेल करखिन , हमर ई - मेल हय - mahi.manish100@gmail.com
phone no -9555742022
village +post okhariya , dist - nawada , kawakol , bihar

vikash sharma said...

hamni ke appan ee bhasa ke badave lagi ka ka kare ke chaahi...

नारायण प्रसाद said...

hamni ke appan ee bhasa ke badave lagi ka ka kare ke chaahi...

अपने तो अप्पन अता-पता देवे नयँ कइलथिन कि एकरा बारे चर्चा हो सकइ । वास्तव में यदि एकरा लगी गम्भीर हथिन त हमरा इ-मेल करके ई सवाल पूछ सकऽ हथिन ।