विजेट आपके ब्लॉग पर

Monday, October 12, 2009

6. बोलती बंद हो गेल

लघुकथाकार - विशेश्वर मिश्रा 'विकल'

हम आकस्मिक अवकाश में हली । हेडमास्टर साहेब भी हमरा छुट्टी देले हलन । क्षेत्रीय पदाधिकारी के औचक निरीक्षण भेल । हम्मर दरखास्त के नजरअंदाज करके हमरा औफिस बोलावल गेल । अगला दिन औफिस में मिलला पर पदाधिकारी जी कहलन - "बड़ा बाबू से मिल लऽ !"

बड़ा बाबू से मिलली त ऊ हमरा से एक हजार रुपइया घूस माँगलन । आके साहेब के सामने घिघिअइली, "छुट्टी में रहला पर भी बड़ा बाबू एक हजार माँगइत हथ ।"

"छुट्टी केकरा कहल जाहे से तो हम जानवे न करीं । नौकरी बचावे ला हवऽ त कम से कम पाँच सौ रुपइया लगवे करतवऽ ।" साहेब के बात सुन के हम्मर बोलती बंद हो गेल

[मगही मासिक पत्रिका "अलका मागधी", बरिस-४, अंक-१, जनवरी १९९८, पृ॰२७ से साभार]

1 comment:

ललित शर्मा said...

साहेब के बात सुन के हम्मर बोलती बंद हो गेल ।
chhapo sabke chhapo, saheb-sahbaiin sabke kisa chhapo. bahut badhiya narayan ji.