विजेट आपके ब्लॉग पर

Saturday, October 08, 2011

अनूदित साहित्य


अनूदित साहित्य
1. उपन्यास
(1) विजेता 
  (मूल कन्नड - एम॰आर॰एस॰ प्रसन्न ;  मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद)
      [मगही तिमाही "बिहान" (पटनासम्पादक - डॉ॰ रामनन्दन) में पाँच किस्तों में प्रकाशित 
        (खंड-26अंक 1-2अप्रील-जुलाई 2008पृ॰१-१६ (मूल में पृ॰32 के आगे)
        (खंड-26, अंक-3-4, अक्तूबर 2008-जनवरी 2009पृ॰१७-३२ (मूल में पृ॰22फिर 32 के आगे)
        (खंड-27अंक-1अप्रील 2009पृ॰३३-४८ (मूल में पृ॰11, फिर 32 के आगे)
        (खंड-27अंक-2-3, जुलाई-अक्टूबर 2009पृ॰४९-६४ (मूल में पृ॰30, फिर 32 के आगे)
        (खंड-27अंक-4, जनवरी 2010, पृ॰६५-६७ (मूल में पृ॰4, फिर 44 के आगे)]
बाद में सन् 2010 ई॰ में बिहार मगही मंडल द्वारा पुस्तक रूप में भी प्रकाशित ।

(2) मोती के कंगनवाली 
  (मूल कन्नड - एम॰ राममूर्ति ;  मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद)
[शोध तिमाही "मगही समाज" (गयासम्पादक - डॉ॰ रामप्रसाद सिंह) में आंशिक रूप से अब   तक दो किस्तों में प्रकाशित 
        (अप्रैल-जून 2008पृ॰43-46 (अनुवादक की ओर से - पृ॰42-43)
        (जुलाई-सितम्बर 2008पृ॰40-45]

     (मूल तमिल - पी॰ के॰ प्रभाकर; कन्नड अनुवाद - बी॰आर॰ शंकर ;
      कन्नड से मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद)
       ["मगही पत्रिका" (दिल्लीसम्पादक - धनंजय श्रोत्रिय) में तीन किस्तों में प्रकाशित 
        (१) नवांक-2, पूर्णांक-14, मई-जून 2011, पृ॰43-51;
        (२) नवांक-3, पूर्णांक-15, जुलाई-अगस्त 2011, पृ॰65-72; 
        (३) नवांक-4, पूर्णांक-16, सितम्बर-अक्टूबर 2011, पृ॰50-57]

 (4) हौआ 
   (मूल कन्नड - टी॰ के॰ रामराव ;  मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद)

     [मूल रूसी - फ्योदर दस्तयेव्स्की ; मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]

     [मूल रूसी - फ्योदर दस्तयेव्स्की ; मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]

     [मूल रूसी - मिख़ाइल ल्येरमन्तव ; मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]
       Герой нашего времени

  [मूल रूसी - अलिक्सान्द्र पुश्किन (1799-1837)  ;   मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]


2. कहानी
  [मूल कन्नड - सास्कामूर्ति ;  मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]

    [मूल रूसी - अलिक्सान्द्र पुश्किन (1799-1837)  ;   मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]
     Станционный смотритель  [Повести Белкина]

     [मूल तमिल - आर॰ विलिनाथन्     ;         उड़िया अनुवाद - पौरुष (मार्च 1981)
                        उड़िया से मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]

    [मूल रूसी - अन्तोन चेखव (1860-1904)   ;   मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]
      Враги

    [मूल रूसी - अन्तोन चेखव (1860-1904)   ;   मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]
    (i) Пари  (ii) Пари
            
   [मूल रूसी - अन्तोन चेखव (1860-1904)   ;   मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]

  [मूल रूसी - मिख़ाइल ज़ोश्शेन्को (1895-1958)  ;   मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]

    [मूल रूसी - लेव तल्सतोय (1828-1910)   ;   मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]
     Ермак

(9) बेचारी लिज़ा
   [मूल रूसी: निकोलाय करमज़िन (1766-1826)  ;   मगही अनुवाद: नारायण प्रसाद]

  [मूल रूसी: फ्योदर दस्तयेव्स्की (1821-1881)  ;   मगही अनुवाद: नारायण प्रसाद]

(11) इंसान के किस्मत   (संक्षिप्त रूपान्तर)
  [मूल रूसी: मिखाइल शोलोखोव (1905-1984)  ;   मगही अनुवाद: नारायण प्रसाद]
   Судьба человека (सम्पूर्ण)

(12) भगवान सच देखऽ हका, लेकिन तुरते बतावे वला नयँ (सत्य कथा)
  [मूल रूसी: लेव तल्सतोय (1828-1910) ;  मगही अनुवाद: नारायण प्रसाद]

(13) काकेशियाई कैदी (सत्य कथा)
  [मूल रूसी: लेव तल्सतोय (1828-1910) ;  मगही अनुवाद: नारायण प्रसाद]

(14) पहिला शिक्षक
  [मूल रूसी: चिंगिज़ ऐतमातोव (1928-2008) ; मगही अनुवाद: नारायण प्रसाद]

(15) नीला आउ हरा
  [मूल रूसी: यूरी कज़ाकोव (1927-1982) ; मगही अनुवाद: नारायण प्रसाद]

(16) पिरात्का
   [मूल रूसी: अलिक्सांद्र कुप्रिन (1870-1938) ; मगही अनुवाद: नारायण प्रसाद]

(17) पांडुलिपि
   [मूल तुर्कमेन: नुरमुरात सरिख़ानोव (1906-1944) ; रूसी अनुवाद: अलिक्सांद्र आबोर्स्की (1961);
                                                                             रूसी से मगही अनुवाद: नारायण प्रसाद]
    Книга

(18) निशाना (The Shot)
     [मूल रूसी - अलिक्सान्द्र पुश्किन (1799-1837)  ;   मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]
     Выстрел  [Повести Белкина]

(19) काला पान के बीवी (The Queen of Spades)


     [मूल रूसी - अलिक्सान्द्र पुश्किन (1799-1837)  ;   मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद]
      अध्याय-1    अध्याय-2    अध्याय-3    अध्याय-4    अध्याय-5    अध्याय-6
      
3. हास्य-व्यंग्य
     (मूल कन्नड - हरिदास आचार्य ;  मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद)

4. नाटक 
[मूल रूसी: निकोलाय गोगल (1809-1852)  ;   मगही अनुवाद: नारायण प्रसाद]


No comments: